पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने पीयू को दीं 1954 से सहेजकर रखी 3500 किताबें, बनेगी लाइब्रेरी

चंडीगढ़ [डॉ. रविंद्र मलिक]। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने पंजाब यूनिवर्सिटी (पीयू) को अपने संग्रह से 3500 किताबें दी हैं। इस पर पीयू डॉ. सिंह के सम्मान में एक लाइब्रेरी बनाएगी। इनमें कुछ किताबें वह भी हैं, जिन्हें डॉ. मनमोहन सिंह ने अपने कॉलेज के दिनों में पढ़ा था।

पूर्व पीएम ने पीयू के वीसी प्रो. अरुण ग्रोवर और रजिस्ट्रार को पिछले सप्ताह दिल्ली बुलाया था और अपनी किताबें पीयू को देने की बात कही। मनमोहन सिंह ने इच्छा जताई कि युवा पीढ़ी इन किताबों से ज्ञान अर्जित करे। पीयू को मिलने वाली किताबों में कुछ पूर्व पीएम की पढ़ाई के दिनों की हैं।

डॉ. सिंह ने वर्ष 1952 में बीए और 1954 में एमए अर्थशास्त्र पंजाब यूनिवर्सिटी से ही की थी। पंजाब यूनिवर्सिटी उन दिनों होशियारपुर (पंजाब) में थी, जो कि बाद में चंडीगढ़ में शिफ्ट हो गई। डॉ. सिंह ने तब से किताबें सहेज कर रखी हुई हैं।

किताबों को पूर्व पीएम के दिल्ली आवास से चंडीगढ़ लाने का प्रबंध किया जा रहा है। पीयू प्रशासन इस बात का विशेष ध्यान रख रहा है कि किताबों को कोई नुकसान न पहुंचे। किताबों को विशेष पैकिंग में लाया जाएगा। इसके लिए कुछ अधिकारियों की ड्यूटी भी लगाई गई है।

गुरु तेग बहादुर भवन में बनेगी लाइब्रेरी

पंजाब यूनिवर्सिटी में लाइब्रेरी के लिए जगह सुनिश्चित कर ली गई है। गुरु तेग बहादुर भवन में लाइब्रेरी बनाई जाएगी। इसकी डिजाइनिंग को लेकर पीयू ने ज्यादातर काम कर लिया है। पीयू अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोडऩा चाहती।

पीयू की योजना है कि पूर्व पीएम के घर में लगी पुरानी कलाकृतियों व फोटो को भी सहेजा जाए। डॉ. सिंह की जिंदगी के किस्सों को भी पीयू लाइब्रेरी में डिस्प्ले किया जाएगा। इसमें उनके बाल्यकाल, पढ़ाई, नौकरी से लेकर राजनीति में आने, देश में आर्थिक सुधार लाने और पीएम बनने तक का सफर शामिल होगा।

पीयू प्रशासन की योजना है कि भविष्य में पीयू को एक टूरिस्ट प्लेस की तरह विकसित किया जाए। सुखना लेक और रॉक गार्डन की तरह यहां भी विदेशी सैलानी आएं। पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह के नाम की लाइब्रेरी बनाना इसकी शुरुआत भर है।

अपनी एल्युमनी के चलते देश के शैक्षणिक संस्थानों में दूसरे स्थान पर काबिज पीयू खुद को विदेशों में प्रमोट करना चाहती है। पीयू प्रशासन इस लाइब्रेरी का उद्घाटन भी जल्द करवाना चाहती है। पूर्व पीएम 10 अप्रैल को सेक्टर-19 स्थित क्रिड (सेंट्रल फॉर रिसर्च इन रूरल एंड इंडस्ट्रियल डवलपमेंट) आ रहे हैं और 11 अप्रैल को पीयू में लेक्चर देंगे।

पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के वीसी प्रो. अरुण ग्रोवर का कहना है कि पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह ने 3500 किताबें पीयू को दी हैं जो कई विषयों व क्षेत्रों की हैं। बहुत कमाल का संग्रह है। हम उनके नाम से यहां लाइब्रेरी बनाने जा रहे हैं। इसकी डिजाइनिंग का काम हो रहा है, जो कि पीयू को टूरिस्ट प्लेस बनाने की दिशा में बड़ा कदम है।

Loading...
E-Paper