अयोध्या केस : COMMUNICATION के नये नियम का सच आया सामने

Loading...

जैसा की हम सभी को इस बात का पता है कि काफी सालो से अयोध्या में राम मंदिर और बावरी मस्जिद का मुद्दा कोर्ट में सालो से चलता आ रहा है. वही अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का फैसला सुप्रीम कोर्ट कभी भी सुना सकती है. जिसके बीच अयोध्या विवाद से जुड़ा एक मैसेज सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो रहा है. इसमें दावा किया जा रहा है कि अयोध्या फैसले के मद्देनजर कम्यूनिकेशन के नए नियम लागू किये जाएंगे. वही ऐसा भी कहा जा रहा है कि इनमें सभी कॉल की रिकॉर्डिंग भी की जाएगी.

क्या है वायरल; वायरल मैसेज में लिखा है- ‘अयोध्या फैसला कल से नये communication के नये नियम लागू होने वाले हैं :-

1. सभी कॉल की recording होगी.

2. सभी call recording saved होंगे

3. Whatsapp, Facebook, Twitter और सभी Social media सभी monitored होंगे

4. जो ये नहीं जानते उन सभी को सूचित कर दीजिये.

5. आपकी Devices को मन्त्रालय systems से जोड़ दिया

6. ध्यान दीजिये कोई भी गलत message किसी को भी मत भेजिये

7. अपने बच्चों, भाइयों, रिश्तेदारों, दोस्तों,परिचितों आदि सभी को सूचित कर दें कि इन सबका ध्यान रखें और social sites को संयम से चलायें.

8. कोई आपत्तिजनक post या video..आदि जो आप recieve करते हैं राजनीति या वर्तमान स्थिति पर सरकार या प्रधानमंत्री के खिलाफ, उसे Send नहीं करें.

9. इस समय किसी राजनीतिक या धार्मिक मुद्दे पर कोई आपत्तिजनक मैसेज लिखना या भेजना अपराध है …..ऐसा करने पर बिना वारंट के गिरफ़्तारी हो सकती है.

10. पुलिस एक नोटिफ़िकेशन निकालेगी ….फ़िर Cyber अपराध… फ़िर action लिया जायेगा.

11. यह बहुत ही गम्भीर है. आप सभी group members, admins ,…इस विषय पर गहराई से सोचिये

12. कोई गलत Message मत भेजिये. सभी को सूचित करें तथा इस विषय पर ध्यान रखें.

13. Please इसे share कीजिये…’

क्या है सच: मिली जानकारी के मुताबिक अयोध्या पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कंफर्म किया है कि वायरल मैसेज फेक है. अयोध्या पुलिस ने एक न्यूज रिपोर्ट की कटिंग शेयर कर वायरल मैसेज का खंडन किया गया है. वही इस न्यूज रिपोर्ट का शीर्षक है – ‘सोशल मीडिया के माध्यम से अशांति फ़ैलाने की हो रही है नाकाम कोशिश’. इस रिपोर्ट में वायरल मैसेज को फेक बताया गया है और लिखा गया है कि इस मैसेज के जरिये सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने की कोशिश चल रही थी.

Loading...