योगी सरकार बनाएगी अपने खर्च से मजदूरों के बच्चों को डाक्टर-इंजीनियर

लखनऊ। विरोधियों के प्रति आक्रामक अंदाज रखने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज अलग मूड में दिखे और कहा कि मजदूरों के बच्चों की इंजीनियरिंग व मेडिकल की पढ़ाई का खर्चा अब सरकार उठाएगी। सरकार गरीबों के साथ खड़ी है। उन्होंने स्वयं गरीबों की पीड़ा को नजदीक से महसूस किया है। ऐसे में गरीबों की सहायता के लिए तमाम योजनाओं को मूर्त रूप दिया जा रहा है। इन्हीं में एक योजना सामूहिक विवाह भी है जो गरीबों को शादी के बोझ से मुक्त करती है।

501 वर-वधुओं को आशीर्वाद

मीरजापुर में सामूहिक विवाह समारोह में मुख्यमंत्री ने 501 जोड़े वर-वधुओं को आशीर्वाद देने के बाद उनके मंगलमय जीवन की कामना करते हुए कहा कि ऐसे आयोजन समाज की रूढिय़ोंं को तोडऩे में सहायक साबित होंगी। सीएम ने याद दिलाया कि दहेज के कारण कई युवतियां दम तोड़ देती हैं। समाज का एक तबका शादी-ब्याह के आयोजन में लाखों रुपये खर्च कर देता है तो दूसरे तबके के पास बेटी की शादी के लिए एक कौड़ी तक नहीं होती है। अपेक्षित दहेज नहीं दे पाने के कारण वर पक्ष शादी से इन्कार कर देता है। दहेज समाज के लिए अभिशाप है। समारोह को स्थानीय सांसद व स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने भी संबोधित किया।

रोकना होगा पलायन

सुलतानपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्थानीय रामनरेश त्रिपाठी सभागार में पंचायती राज दिवस के शुभारंभ पर 30.09 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। स्वच्छता के लिए पांच प्रधानों सहित 11 लोगों को प्रशस्ति पत्र सौंपा। लाभार्थियों को प्रमाणपत्र बांटे। जिला चिकित्सालय व गेहूं क्रय केंद्र का निरीक्षण किया। स्कूल चलो अभियान को हरी झंडी दिखाई तथा सभागार परिसर में बनाए गए स्टॉलों का निरीक्षण किया। कहा, देश की अर्थव्यवस्था गांवों में है। सुविधाएं बढ़ाकर पलायन रोकना होगा।

शिक्षा से निकलेगी स्वावलंबन की राह

प्रतापगढ़: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि शिक्षा ही लोगों के स्वावलंबी बनने की आधारशिला हो सकती है। सरकार ने परिषदीय स्कूलों में सिर्फ गरीब बच्चों की पढ़ाई होने की धारणा को तोड़ा है। कान्वेंट स्कूलों की पढ़ाई की तर्ज पर परिषदीय स्कूलों का पाठ्यक्रम बदला है। इसमें आधुनिक, संस्कार युक्त व कर्तव्यबोध कराने वाली शिक्षा देंगे। सरकार की मंशा है कि कोई बालक व बालिका शिक्षा से वंचित न रहे। इसीलिए स्कूल चलो अभियान की शुरुआत दो अप्रैल से की गई है। मुख्यमंत्री कंधई मधुपुर स्थित उच्च प्राथमिक विद्यालय में स्कूल चलो अभियान के लिए आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे।

Loading...
E-Paper