जेल में भी डिजाइनर सूट पहनती है हनीप्रीत, सब्जियां उगा रहा है राम रहीम

डेरा सच्चा सौदा चीफ गुरमीत राम रहीम सिंह इंसा और उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत धीरे-धीरे सलाखों की पीछे की जिंदगी के अभ्यस्त होने लगे हैं. राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में, जबकि हनीप्रीत अंबाला की सेंट्रल जेल में क्रमशः अगस्त और अक्टूबर 2017 से सजा काट रहे हैं. दो साध्वियों के साथ रेप के मामले में राम रहीम 20 साल की सजा काट रहा है, जबकि हनीप्रीत को राम रहीम को सजा के बाद हिंसा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

बदल गईं परिस्थितियां

हनीप्रीत, शुरू में जेल के खाने में मीन मेख निकालती थीं, लेकिन अब उसने जेल के खाने को स्वीकार कर लिया है. आरोप लगाए जा रहे हैं कि जेल के स्टाफ ने उसे घर का खाना खाने की स्वीकृति दे रखी थी, लेकिन मीडिया में खबरें आने के बाद इस तरह की चीजों को रोक दिया गया. एक सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर आजतक को बताया कि हनीप्रीत खुद के आध्यात्मिक होने का दावा करती है, लेकिन जेल में उसने भजन और कीर्तन से दूरी बना रखी है.

एक और सूत्र ने दावा किया कि हनीप्रीत जेल में अकेले रहना ही पसंद करती है और साथी कैदियों के साथ बहुत कम बात करती है. सूत्र का कहना है कि वो तभी खुश होती है, जब उसके परिवार वाले उससे मिलने आते हैं. बता दें कि हनीप्रीत का मामला अभी अंडरट्रायल में है, इसलिए उसे अपनी पसंद के कपड़े पहनने की इजाजत है. कोर्ट में पेशी के दौरान हनीप्रीत को डिजाइनर शूट पहने हुए देखा जा सकता है, यही नहीं हर बार कोर्ट में पेशी के दौरान वह अलग-अलग कपड़ों में दिखती है.

‘बाबा’ का हाल 

गुरमीत राम रहीम को जेल में अनुशासित और अच्छे व्यवहार वाले कैदी के रूप में देखा जाता है. उसे एक अप्रशिक्षित मजदूर के रूप में ट्रीट किया जाता है और हर रोज का उसे 20 रुपया वेतन के रूप में मिलता है. राम रहीम अभी जेल के किचन गॉर्डन में सब्जियां उगाने का काम करता है.

एक कैदी के रूप में राम रहीम केवल जेल के कपड़े ही पहन सकता है. सफेद कुर्ता और पाजामा. पिछले आठ महीनों में उसकी दाढ़ी और बाल भूरे हो गए हैं. हाल ही में उसकी मां, पत्नी और बेटा मिलने आए थे. जेल प्रशासन ने राम रहीम को अपने खाते में हर महीने पांच हजार रुपये जमा कराने की स्वीकृति दी है, जिससे वह जेल की कैंटीन से फल और समोसे आदि खरीदता है.

बता दें कि डेरा सच्चा सौदा ने हाल ही में लखनऊ के दो वकीलों तनवीर अहमद मीर और ध्रुव गुप्ता को हायर किया है. ये दोनों वकील बड़े पैमाने पर बंध्याकरण कराने के मामले में गुरमीत राम रहीम का बचाव करेंगे. राम रहीम पर अपने 166 पुरुष चेलों का बंध्याकरण कराने का आरोप है. इसके साथ ही राम रहीम पर हत्या के दो मामले भी हैं. हरियाणा के पंचकूला में स्पेशल कोर्ट इस मामले की सुनवाई कर रही है. गुरमीत के दोनों वकीलों मीर और ध्रुव गुप्ता ने आरुषि मर्डर केस में तलवार दंपति का बचाव किया था.

Loading...
E-Paper