चाय की चुस्की लेने के बाद हरीश रावत ने बीजेपी को दिखाई ताकत

देहरादून : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कीड़ा-जड़ी चाय को प्रोत्साहित करने के लिए टी-पार्टी दी। इसमें कई सियासी दलों के नेताओं के साथ बड़ी संख्या में लोगों ने शिरकत की। लेकिन, इस पार्टी में प्रदेश कांग्रेस का कोई बड़ा चेहरा नजर नहीं आया। इस पर भी आयोजन में आए लोग कानाफूसी करते रहे। खैर, चाय की चुस्की के साथ हरदा भाजपा सरकार पर निशाना साधने से नहीं चूके। बोले कि निकाय चुनाव को लेकर सरकार और निर्वाचन आयोग आमने-सामने हैं। यह कोई साधारण नहीं, बल्कि बड़ा संवैधानिक संकट है। 

उन्होंने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाईं और कहा कि हमारी सरकार में उत्तराखंड खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) हो गया था, वर्तमान सरकार तो इस पर सिर्फ अपना तमगा लगा रही है। 

दरअसल, हरीश रावत विधानसभा चुनाव की हार के बाद अलग लाइन पर चल रहे हैं। कभी काफल पार्टी तो कभी आम की दावत। इतना ही नहीं, फरवरी में उन्होंने हार का कारण जानने के लिए मंदिरों में भजन-कीर्तन भी किए थे। 

ईसी रोड स्थित एक रेस्तरां में आयोजित पार्टी में हरीश रावत ने कहा कि चीन और उत्तर कोरिया में बड़े पैमाने पर लैब में कीड़ा-जड़ी पैदा की जाती है। यह काम उत्तराखंड की बेटी दिव्या रावत ने दून में कर दिखाया है। हमें दिव्या और चाय को प्रोत्साहित करना चाहिए, इस आयोजन का सिर्फ यही उद्देश्य है। 

बता दें कि मशरूम गर्ल के नाम से मशहूर दिव्या रावत ने कीड़ा-जड़ी चाय का रेस्तरां शुरू किया है। पिछले साल उन्होंने कीड़ा-जड़ी का उत्पादन शुरू किया था। एक कप चाय की कीमत 400 रुपये रखी गई है। 

इस दौरान लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी, प्रीतम भरतवाण, सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रोफेसर सत्यनारायण सचान, सीपीआइ से समर भंडारी, बच्चीराम कौंसवाल, ले.ज. (सेनि) गंभीर सिंह नेगी, पूर्व विधायक राजकुमार, कांग्रेस नेता अशोक वर्मा, राजीव जैन, सुरेंद्र अग्रवाल, सुशील राठी आदि मौजूद रहे।

 
Loading...
E-Paper