कार्रवाई के बीच रूस, अमेरिका के राजनयिकों ने अपने-अपने सामान बांधे

वाशिंगटन: मास्को और पश्चिमी देशों के बीच चल रहे राजनयिक संकट के बीच रूस और अमेरिका के राजनयिक अपने-अपने सामान बांधकर अपने-अपने देश रवाना होने की तैयारी में हैं. दरअसल ब्रटेन की जमीन पर रूस के पूर्व जासूस पर हुए नर्व एजेंट हमले के बाद इन बड़ी महाशक्तियों के बीच राजनयिक संकट उत्पन्न हो गया है.

करीब 50 पुरुष, महिलाएं और बच्चे वाशिंगटन में रूस के दूतावास को छोड़कर एक बस से निकले हैं. ऐसा माना जा रहा है कि ये सभी डलेस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की तरफ जा रहे हैं. कुल 171 लोग- जिनमें से 60 रूसी दूत हैं जिनपर वाशिंगटन ने जासूस होने का आरोप लगाया है. ये लोग अपने परिवार के साथ रूसी सरकार द्वारा मुहैया गए दो विमानों से अपने देश लौट जायेंगे. विमान थोड़ी देर के लिए न्यूयॉर्क में रूकेगी.

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की 60 अमेरिकी राजदूतों के निष्कासन की घोषणा के बाद से सेंट पीट्सबर्ग में भी अमेरिकी दूतावास के पास ट्रकों की आवाजाही चल रही है और दूतावास पर अमेरिकी ध्वज झुका हुआ है. इंटरफैक्स न्यूज एजेंसी ने बताया कि दूतावास की कर्मचारियों को यहां से जाने के लिए रात के 10 बजे तक का समय दिया गया है. वहीं यहां रहने वाले लोगों को यहां से जाने के लिए अप्रैल के अंत तक का समय दिया गया है

यह जैसे को तैसा वाली कार्रवाई रूस द्वारा ब्रिटेन से अपने राजनियकों की संख्या में कमी करने की मांग के बाद हुई है. दरअसल रूस के एक पूर्व जासूस पर ब्रिटेन की जमीन पर नर्व एजेंट हमले के बाद पश्चिम और रूस में राजनयिक संकट गहरा गया है।. हाल के वर्षों में रूस और पश्चिम के बीच राजनयिकों का यह सबसे बड़ा निष्कासन है और दोनों के बीच शीत युद्ध के बाद संबंधों में हुई सबसे बड़ी गिरावट है.

Loading...
E-Paper