ठंड में बढ़ जाता है ‘हार्ट अटैक’ का खतरा, अपनाएं ये उपाय

दिल हमारी बॉडी का सबसे अहम भाग होता है. यह नॉनस्टॉप काम करता है. मगर गलत जीवनशैली  तथा खानपान की आदतें दिल को बहुत हानि पहुंचाती हैं. सर्दियों के सीजन में दिल की बीमारियां बहुत अधिक बढ़ जाती हैं. गर्मियों के मुकाबले सर्दियों के मौसम में हृदय संबंधित समस्याओं का अधिक सामना करना पड़ता है. सर्दियों में जैसे-जैसे टेम्परेचर कम होता है, बॉडी के टेम्परेचर को बनाए रखने के लिए दिल को अतिरिक्त मेहनत करने की आवश्यकता पड़ती है. वही सर्दियों में बॉडी तापमान गिरने पर हमारा सिम्पेथेटिक नर्वस सिस्टम सक्रीय हो जाता है तथा कैटेकोलामाइन के स्राव को बढ़ा सकता है. इससे रक्त वाहिकाओं का संकुचन हो सकता है जो हार्ट रेट, ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल के स्तर तथा रक्त के थक्के बनने की प्रक्रिया को बढ़ा सकता है. ये सभी चीजें दिल का दौरान पड़ने के खतरे को बढ़ा सकती हैं. ऐसे में फोर्टिस हॉस्पिटल, कल्याण के Senior Consultant-Interventional Cardiology डॉ. जकिया खान ने ठंड के सीजन में दिल को स्वस्थ रखने के लिए कुछ टिप्स साझा किए हैं. आइए जानते हैं इन टिप्स के बारे में-

स्ट्रेस ना लें:- 
दिल का दौरा एवं हृदय संबंधित रोगों की मुख्य वजह तनाव होता है. एक्यूट स्ट्रेस से सीधे हार्ट अटैक पड़ सकता है तथा क्रोनिक स्ट्रेस से हृदय की धमनियों की अंदरूनी परत में बदलाव हो सकता है जिससे सूजन हो सकती है जिसकी वजह से खून का थक्का जम सकता है तथा साथ ही दिल का दौरा पड़ सकता है.

मनपसंद काम करें:- 
गार्डनिंग, पेंटिंग, रीडिंग तथा म्यूजिक सुनने से भी स्ट्रेस को कम किया जा सकता है. आप चाहें तो योग तथा मेडिटेशन भी कर सकते हैं. यह भी बहुत लाभदायी साबित होता है.

भरपूर नींद लें:- 
दिल के दौरे के खतरे को कम करने के लिए आवश्यक है कि आप प्रतिदिन पूरी नींद लें. साथ ही काम करते वक़्त बीच में ब्रेक भी लेते रहें.

प्रतिदिन करें एक्सरसाइज:- 
रोजाना कम से कम 30 मिनट तक एक्सरसाइज अवश्य करें. सर्दियों के मौसम में घर के बाहर एक्सरसाइज करने से बचें, नहीं तो आपको ठंड लग सकती हैं. आप साइकिलिंग, ट्रेडमिल, योग जैसे इनडोर एक्सरसाइज के विकल्प भी चुन सकते हैं.

अधिक नमक और चीनी से बनाएं दूर:- 
खाने में सूरजमुखी का तेल या सरसों के तेल का उपयोग करें. ये पॉलीअनसेचुरेटेड होते हैं. अपने डेली मील में सलाद तथा फ्रूट्स को अवश्य सम्मिलित करें.

Loading...
E-Paper