MP के CM शिवराज चौहान और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की मुलाकात में सड़कों के आसपास औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा देने पर हुई चर्चा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की मुलाकात में सड़कों के आसपास औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा देने पर चर्चा हुई। बुधवार देर रात दिल्ली में गडकरी से मुलाकात के बाद शिवराज ने मीडिया से चर्चा में कहा कि हम ऐसा मार्ग बनाना चाहते हैं, जिसके दोनों ओर इंडस्ट्रीयल क्लस्टर विकसित होंगे। टाउनशिप आएंगी और वह मध्य प्रदेश की आर्थिक प्रगति का बहुत बड़ा आधार होगा। अटल प्रगति पथ पर भी विस्तार से चर्चा हुई।

इस बात की संभावनाओं पर विमर्श किया गया कि कहां-कहां औद्योगिक क्लस्टर बन सकते हैं। बड़े शहर इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर में रिंग रोड बनें, जिनमें इंदौर की तरह सुपर कॉरिडोर हो। इनके आसपास औद्योगिक और व्यावसायिक गतिविधियां शुरू हो सकें। रोड केवल रोड नहीं हैं, वे प्रगति का आधार भी हों। इससे आत्मनिर्भर भारत की तर्ज पर आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश की दिशा में काम हो रहा है। ब्राडगेज के लिए मेट्रो के विस्तार पर भी चर्चा हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चर्चा काफी सार्थक रही है। शीघ्र ही नई स्वीकृतियां मिलने वाली हैं।

गडकरी ने मप्र सरकार को दिलाया भरोसा

 

– 3000 किमी राज्य राजमार्गों को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करें, फिर मंत्रालय उन्हें एक वर्ष में वित्त पोषित करेगा।

 

– भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर जैसे प्रमुख शहरों की रिंग रोड एनएचएआइ द्वारा राज्य सरकार की ओर से मात्र 50 प्रतिशत की सहायता से तथा सीमेंट व स्टील पर जीएसटी में छूट के साथ बनाई जाएगी।

 

– शहर की सभी सड़कों के हिस्से, जहां नया बायपास बनाया गया है, एकमुश्त सहायता योजना के तहत स्वीकृत किए जाएंगे। इससे करीब 25 शहरों को फायदा होगा।

 

– इस सप्ताह सेंट्रल रोड फंड के तहत 1500 करोड़ की परियोजनाओं को मंजूरी दी जाएगी।

 

– एमपी पीडब्ल्यूडी स्विस चैलेंज मोड के तहत नई परियोजनाओं की योजना तैयार करेगा।

 

– 900 किमी नर्मदा एक्सप्रेस-वे भारतमाला में शामिल होगा।

 

– नई नीति से मप्र भारत का एथेनॉल हब बन सकता है।

Loading...
E-Paper