भाजपा के आगे विपक्षी खेमा कहीं नजर नहीं आ रहा: झारखंड विधानसभा चुनाव

Loading...

झारखंड में विधानसभा चुनाव से पूर्व की तैयारियों पर एक नजर डालें, तो यह स्पष्ट हो जाता है कि सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के आगे विपक्षी खेमा कहीं नजर नहीं आ रहा है। भाजपा टॉप से बॉटम तक जहां पूरे झारखंड में सक्रिय है, वहीं विपक्षी खेमा अपने को सिर्फ बयानबाजी तक ही सीमित किए हुए हैं। हां, नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन (झामुमो) जरूर अकेले बूते कुछ मोर्चा लेते दिखाई दे रहे हैं। उनकी ‘बदलाव यात्रा’ भी चर्चा में रही है।

भाजपा की सक्रियता का आलम यह है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह एक बार और कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा डेढ़ माह में तीन बार अलग-अलग प्रमंडलों में झारखंड का दौरा कर चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गत 12 सितंबर को एक विशाल रैली की। हालांकि, यह कार्यक्रम सरकारी था, लेकिन झारखंड से पूरे देश को किसान मानधन योजना समेत कई सौगातें देने के स्पष्ट मायने थे।

‘जोहार जन आशीर्वाद यात्रा’ के रथ की कमान मुख्यमंत्री रघुवर दास स्वयं संभाले हुए हैं। वहीं, पार्टी के सभी मोर्चा अपने-अपने स्तर से सक्रिय हैं। बूथ इकाइयों की सक्रियता पर संगठन के स्तर से निगाह रखी जा रही है। इसके विपरीत, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) को छोड़कर पूरा विपक्षी खेमा अब तक विधानसभा चुनाव को लेकर जमीनी स्तर पर सक्रिय नहीं हुआ है।

Loading...