जीतन राम मांझी ने दी सीएम नीतीश को सलाह-वापस आइए, विचार करेंगे

पटना [जेएनएन]। पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सलाह देते हुए कहा है कि राजनीति में ना कोई दोस्त ना कोई दुश्मन। परिस्थिति के अनुसार काम किया जाता है। नीतीश कुमार वापस आना चाहें तो होगा विचार। सब मिल बैठ कर नफा नुकसान देख कर लेंगे फैसला।

बिहार में भाजपा के साथ गए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कांग्रेस ने फिर महागठबंधन में वापस आने का न्योता दिया है। बिहार कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने गुरुवार को कहा कि बिहार में भाजपा माहौल खराब करने की कोशिश में लगी है।

नीतीश कुमार भी इन चीजों को देख और महसूस कर रहे हैं। ऐसे में बिहार की रक्षा के लिए उन्हें सही फैसला करना चाहिए और माहौल बिगाडऩे वाली राजनीति से अलग होकर धर्मनिरपेक्ष दलों के साथ आना चाहिए। कांग्रेस के साथ ही राजद के विधान पार्षद संजय प्रसाद ने भी नीतीश कुमार को भाजपा का साथ छोडऩे की सलाह दी है ।

कादरी ने रामनवमी के पूर्व से प्रदेश में जगह-जगह हो रहे दंगे-फसाद का हवाला देकर कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार के विकास के मसले पर महागठबंधन से नाता तोड़ भाजपा के साथ दोस्ती की थी, लेकिन उनकी वह मंशा तो पूरी होती नहीं दिख रही।

नीतीश कुमार चाहते थे कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिले। राज्य दो इंजनों के साथ विकास करे, लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा। भाजपा आज नीतीश कुमार पर हावी होती जा रही है।

उन्होंने नीतीश कुमार से दो दिन पूर्व हुई मुलाकात का हवाला देकर कहा कि स्वयं मुख्यमंत्री ने कहा कि माहौल बिगाडऩे वाली ताकतों से वे समझौता नहीं करेंगे। कादरी ने कहा तो मेरी उन्हें सलाह है कि वक्त आ गया है वे भाजपा से अलग हों और समान विचारधारा वालों के साथ आएं।

एक सवाल पर उन्होंने कहा कि समान विचारधारा वाले महागठबंधन में नीतीश कुमार को कहां जगह मिलेगी, यह तभी तय होगा जब वे भाजपा से अलग होंगे।

कांग्रेस के साथ ही राजद के विधान पार्षद संजय प्रसाद ने भी नीतीश कुमार को भाजपा से अलग होने की सलाह दी है। उन्होंने जहानाबाद में हुए उपचुनाव का हवाला देकर कहा कि भाजपा ने जानबूझकर जहानाबाद से जदयू प्रत्याशी का चुनाव लड़ाया।

भाजपा नीतीश कुमार को बता देना चाहती थी कि जनता का रुझान अब जदयू के साथ नहीं बल्कि भाजपा के साथ है। भाजपा अपने इस मकसद में सफल रही है। इसलिए अभी भी वक्त है कि नीतीश कुमार भाजपा की गोद से बाहर आएं और धर्मनिरपेक्ष ताकतों के साथ खड़े हों।

जदयू प्रवक्ता ने भी कांग्रेस को दी सलाह

कौकब कांदरी के न्योता को अगंभीर विषय मानते हुए जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि कादरी पहले पूर्णकालिक प्रदेश अध्यक्ष बन जाएं फिर ऐसे बयान दें। उन्हें समझना चाहिए कि धर्मनिरपेक्षता की लड़ाई भ्रष्टाचार के बूते नहीं लड़ी जा सकती।

नीरज ने पूछा कि कादरी लालू प्रसाद को कांग्रेस से माफी मांगने को क्यों नहीं कहते? लालू यादव भागलपुर दंगे के समय राजीव गांधी पर आरोप लगाते थे।

Loading...
E-Paper