चौकीदार बनाया है तो हमारी लाठी की आवाज भी सुनो।

Loading...

भाजपा के चुनावी कम्पेन की पंच लाइन एक विज्ञापन की शक्ल में जारी हो गई। पिछले चुनाव की पंच लाइन थी- अच्छे दिन आने वाले हैं। इस बार की लाइन है- ” हम सब चौकीदार है।” यानी देश का हर नागरिक चौकीदार है। जाहिर सी बात है ये लाइन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने तय की होगी।उन्होंने ही “हम सब चौकीदार” कम्पेन अपने ट्विटर हैंडिल से सबसे पहले रिलीज की।
लोग कह रहे हैं कि पौलिटिकल लड़ाई या बदजुबानी में जनता को ढाल बनाया गया है। चलिए मैं इस ओर नहीं देखता। ये मानता हूं कि प्रधानमंती की.ये अच्छी मंशा है।

भ्रष्टाचार, गंदगी, नफरत, आतंकवाद, साम्प्रदायिकता और साजिशों पर नजर रखने के लिए प्रत्येक भारतीय चौकीदारी करे!
हर चौकीदार नफरत की साजिश और भ्रष्टाचार के खिलाफ सजग रहे।भ्रष्टाचार की खबर देा।
ठीक हैं,हम सब चौकीदारी का दायित्व संभाल रहे हैं। हमारी खुली आंखे चप्पे चप्पे पर बढ़ते भष्टाचार और और तमाम भीषण गंदगियों को देख रही है,हम सब इसकी सूचना पहले भी देते रहे हैं।

सरकार बताये लाखों आम इंसानों (चौकीदारों)की लाखों जायज शिकायतों का क्या निस्तारण हुआ। !

कितने मामलों की जांच और कार्यवाही होती है। !

हमें चौकीदार बना दिया अच्छी बात है। हर तरफ चौकीदार पहले से भी मौजूद हैं। ज्यादातर चौकीदार तो चोर ही हैं। कोई भष्ट बाबू की शक्ल में। कोई अफसर की सूरत में। कोई पूंजीपति .. टैक्स चोर, कोई लुटिया चोर, कोई सच्चाई से नजरे चुरा रहा है, कोई लोन चोरी करके भाग रहा है। कोई देश की रक्षा करने वाले सैनिकों की रक्षा में कामचोर साबित हुआ। कोई रोजगार देने की जिम्मेदारी में तो कोई बीमार बच्चोँ के इलाज का दायित्व निभाने में कामचोर साबित हुआ। इन चोर चौकीदारों की शिकायत करने वाले आम और शरीफ नागरिक(चौकीदार) अपनी चौकीदार करते रहते हैं।इनकी शिकायत संज्ञान में ली ही नहीं जाती।

चौकीदार बनाया है तो चोर चौकीदारों के खिलाफ हमारी लाठी की आवाज भी तो सुनों। !

-नवेद शिकोह

Loading...