कुमार विश्वास का तंज- वह और शिवपाल यादव अपनी-अपनी पार्टी के ‘आडवाणी’

- in राजनीति

दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी (AAP) में दरकिनार किए गए वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास तंज कसने का कोई मौका नहीं चूकते। अब इशारों-इशारों में अरविंद केजरीवाल को निशाने पर लेते हुए कवि कुमार विश्वास ने खुद को आम आदमी पार्टी का ‘आडवाणी’ बता दिया। मौका था इटावा में कवि सम्मेलन का,  जब कुमार विश्वास ने यह तंज कसा। इतना ही नहीं उन्होंने समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव को भी अपने साथ ही समाजवादी पार्टी का ‘आडवाणी’ कह दिया।

कुमार विश्वास का तंज- वह और शिवपाल यादव अपनी-अपनी पार्टी के 'आडवाणी'

वह यहां के एक स्कूल में आयोजित कवि सम्मेलन में भाग लेने के लिए सोमवार को आए थे। यहां पर बता दें कि समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता शिवपाल सिंह यादव के जन्मदिन पर लखनऊ में सोमवार को आयोजित कवि सम्मेलन में विश्वास ने अपने अंदाज में शिवपाल सिंह यादव के प्रति संवेदना भी जताई वह भी दर्द भरे अंदाज में।

 दरअसल, जब से समाजवादी पार्टी मुखिया की कमान अखिलेश यादव के हाथों आई है, तब से शिवपाल की कोई पूछ नहीं है। इस दौरान उन्होंने अपनी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता रद् करने के फैसले पर भी अफसोस जताया। हालांकि राष्ट्रपति के फैसले पर टिप्पणी नहीं की। 

इटावा में कुमार विश्वास की बातों से साफ झलका कि वह राज्यसभा नहीं भेजे जाने से दुखी हैं। और आम आदमी पार्टी नेता कुमार विश्वास यह दर्ज उनकी कविता में भी झलका। कवि सम्मेलन में उपस्थित सपा नेता व विधायक शिवपाल सिंह को लेकर उन्होंने कि वह और शिवपाल अपनी-अपनी पार्टी के आडवाणी हो गए हैं। कवि सम्मेलन के बाद पत्रकारों रूबरू होने के दौरान AAP नेता कुमार विश्वास ने कहा कि शिवपाल सिंह यादव और उनकी अपनी-अपनी पार्टियों एक जैसी स्थिति है।

जैसे-जैसे उन्होंने बात आगे बढ़ाई राज्यसभा नहीं भेजे जाने का दर्द चेहरे पर साफ दिखने लगा। कुमार ने कहा  जिन लोगों ने पार्टी को खड़ा करने में खून-पसीना एक कर दिया नेतृत्व ने उनको पार्टी से किनारे कर दिया।

पढ़ें कवि सम्मेलन की यह कविता, जिसमें सामने आई पीड़ा

पुरानी दोस्ती को इस नई ताकत से मत तौलो,

Loading...

ये संबंधों की तुरपाई है षडयंत्रों से मत खोलो,

मेरे लहजे की छैनी से गढ़े कुछ देवता जो कल मेरे लफ्जों पे मरते थे,

वो अब कहते हैं मत बोलो।

इस मौके पर उन्होंने अपनी मशहूर कविता ‘कोई दीवाना कहता है …’ भी सुनाई।

इस दौरान उन्होंने पूर्व सपा मुखिया मुलायम सिंह की तारीफ भी की। उन्होंने कहा कि हिंदी के लिए जो काम सपा परिवार ने किया वैसा किसी ने नहीं किया। 

Loading...