RSS के ‘डंडे’ का जवाब ‘झंडे’ से देगा सेवादल, पीएम मोदी का काशी के लिए है विशेष प्लान

- in Main Slider, बड़ी खबर, राष्ट्रीय

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का तीन दिवसीय ‘भविष्य का भारत’ कार्यक्रम समाप्त हो चुका है. इस कार्यक्रम के माध्यम से संघ प्रमुख मोहन भागवत ने स्वयं इस बात से पर्दा उठा दिया कि आरएसएस एक सांस्कृतिक संगठन होने के साथ-साथ राजनीतिक संगठन भी है. कार्यक्रम के आखिरी दिन भागवत से तमाम राजनीतिक सवाल पूछे गए जिसका जवाब उन्होंने राजनीतिक तरीके से ही देना मुनासिब समझा.राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का तीन दिवसीय 'भविष्य का भारत' कार्यक्रम समाप्त हो चुका है. इस कार्यक्रम के माध्यम से संघ प्रमुख मोहन भागवत ने स्वयं इस बात से पर्दा उठा दिया कि आरएसएस एक सांस्कृतिक संगठन होने के साथ-साथ राजनीतिक संगठन भी है. कार्यक्रम के आखिरी दिन भागवत से तमाम राजनीतिक सवाल पूछे गए जिसका जवाब उन्होंने राजनीतिक तरीके से ही देना मुनासिब समझा.  दरअसल मोदी सरकार में संघ का काफी विस्तार तो हुआ लेकिन वो स्वीकार्यता नहीं मिली जिसकी आरएसएस को उम्मीद थी. लिहाजा संघ प्रमुख ने बदलते माहौल के हिसाब से आरएसएस को एक समावेशी संगठन के तौर पर पेश किया. देश के सबसे पुराने दल कांग्रेस के लिए यह चिंता का विषय है. जिससे निपटने के लिए कांग्रेस ने फौजी अनुशासन और जज्बे की पहचान रखने वाले सेवादल के विस्तार की योजना बनाई है.  सेवादल की स्थापना एक महाराष्ट्री ब्राह्मण डॉ. नारायण सुब्बाराव हार्डिकर ने 1923 में हिंदुस्तान सेवादल के तौर पर की थी. सेवादल की स्थापना के ठीक दो साल बाद 1925 में एक और महाराष्ट्री ब्राह्मण डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार ने आरएसएस की स्थापना की. कम लोगों को पता होगा कि हेडगेवार और हार्डिकर एक दूसरे के सहपाठी थें और शुरुआती दिनों में साथ-साथ सक्रिय थे. लेकिन, हार्डिकर पर महात्मा गांधीज का प्रभाव था तो हेडगेवार ‘हिंदू राष्ट्र’ की संकल्पना लेकर आगे बढ़ें.  सेवादल और संघ की कहानी भी ‘खरगोश और कछुआ’ जैसी ही है. आजादी के बाद सेवादल के पास अपना कोई लक्ष्य नहीं रहा. कांग्रेस में उपेक्षित होने के कारण इसकी भूमिका उत्सवी रवायत बन कर रह गई. जबकि, संघ अपने हिंदू राष्ट्र के सपने को साकार करने की दिशा में कछुआ गति से आगे बढता रहा.  संघ, बीजेपी का मातृ संगठन है. लेकिन इसके ठीक विपरीत कांग्रेस मातृ संगठन है सेवादल अनुषांगिक. कभी कांग्रेस में शामिल होने से पहले सेवादल की ट्रेनिंग जरूरी होती थी. इंदिरा गांधी ने राजीव गांधी की कांग्रेस में एंट्री सेवादल के माध्यम से ही कराई थी.  लेकिन हर बार सत्ता मिलते ही संगठन को भूल जाना कांग्रेस की शैली बन गई. कांग्रेस जब-जब परेशानी में रही, सेवादल के सिपाही आगे आते रहे. ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद जब कांग्रेस के लिए पंजाब में काम करना मुश्किल था, तब सेवादल ने हिंसा के बीच रहकर संगठन का काम किया. जब 1977 में सत्ता से बाहर होते ही इंदिरा गांधी की सुरक्षा कम कर दी गई तो सेवादल ने चौबीसों घंटे उनकी सुरक्षा की. राजीव गांधी के सत्ता से बाहर होने पर भी सेवादल की जिम्मेदारी बढ़ गई थी.  आज जब कांग्रेस ऐसे ही संकट का सामना कर रही है, तो उसे फिर से अपनी जड़ों की तरफ झांकने की जरूरत पड़ रही है. सेवादल के इस विस्तार के कार्यक्रम को समझने के लिए उसके मुख्य संगठक या राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई से aajtak.in ने खास बातचीत की है.  संघ के 'डंडे' का जवाब 'झंडे' से देगा सेवादल  संघ प्रमुख मोहन भागवत ने तीन दिवसीय भारत का भविष्य कार्यक्रम में कहा था कि तिरंगे का हम सम्मान करते हैं, लेकिन भगवा हमारा गुरू. संघ की शाखा में और शहरों-कस्बों में होने वाले प्रभातफेरी में आरएसएस के कार्यकर्ता अपने कंधे पर डंडा लेकर चलते हैं. सेवादल के मुख्य संगठक लालजी देसाई कहते हैं कि डंडा हिंसा का प्रतीक है. संघ के लोग भगवा झंडे के समक्ष आधा सलाम करते हैं जबकि सेवादल देश के तिरंगे को पूरा सलाम करता है. उनके सिर पर काली टोपी है और हमारे सिर पर सफेद. काला रंग गुस्से का प्रतीक है, जबकी सफेद शांति का प्रतीक है. लालजी देसाई कहते हैं तिरंग त्याग और भाइचारे का संदेश देता है जबकि भगवा सिर्फ एक धर्म का प्रतिनिधित्व करता है.  कांग्रेस की तरफ से सेवादल के व्यापक विस्तार को हरी झंडी मिल गई है. लालजी देसाई कहते हैं कि आने वाले दिसंबर में सेवादल की स्थापना के दिन देश में 5000 महत्वपूर्ण जगहों पर ध्वजा रोहण के साथ सेवादल संघ के खिलाफ अपना अभियान शुरू करेगा. देसाई कहते हैं कि हम संघ के डंडे का जवाब झंडे से देंगे.  बदलते समय के साथ सेवादल की संरचना में भी बदलाव  संगठनात्मक दृष्टिकोण से सेवादल और संघ की संरचना लगभग एक तरह की है. लेकिन सेवादल अब अपनी यूथ विंग और महिला विंग भी खड़ा कर रहा है. लालजी देसाई कहते हैं कि सेवादल का संगठन हर ब्लाक/प्रखंड और गांव में मौजूद है. देशभर में हमारे सदस्य हैं जो निःस्वार्थ भाव से जुड़े हैं. लाखों लोग सिर्फ भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हैं. ये ऐसे लोग हैं जो सत्ता के लिए संगठन में नहीं आए.  लालजी देसाई कहते हैं कि सेवादल में आने वाले समय में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा. अब तक कांग्रेस के कार्यक्रम में अनुशासन की जिम्मेदारी तक सीमित कर दिया गया सेवादल एक बार फिर से जनजागरण और नेतृत्व निर्माण का कार्य करने जा रहा है और यह प्रक्रिया अब सतत चलेगी. जिसका असर आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव में देखने को मिलेगा.  राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद लोकसभा चुनाव पर भी जोर  साल के अंत में होने वाले मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनाव में तकरीबन 75 सीटों पर कांग्रेस ने विशेष रणनीति तैयार की है. सेवादल के मुख्य संगठक बीजेपी के दिग्गजों को घेरने के लिए कांग्रेस सेवादल उन सीटों पर डोर टू डोर प्रचार अभियान चलाने जा रहा है जहां पिछले कई चुनावों में कांग्रेस को लगातार हार झेलनी पड़ी है.  घर घर दस्तक देने के इस अभियान के लिए संगठन की तरफ से मध्यप्रदेश की ऐसी 30, राजस्थान की  25 और छत्तीसगढ़ में 20 सीटों का चुनाव किया जा रहा है, जहां सेवा दल की विशेष रूप से प्रशिक्षित टीमें कांग्रेस के लिए प्रचार करेंगी.  लालजी देसाई कहते हैं कि लोकसभा चुनाव तक सेवादल के विस्तार का कार्य पूरा कर लिया जाएगा. जिसके बाद लोकसभा की कुछ सीटों पर व्यापक और कुछ सीटों पर घनिष्ट प्रचार अभियान चलाया जाएगा. एक समय था जब कांग्रेस और जनता के बीच सेवादल एक सेतु की तरह काम करता था. आज भी इसके ज्यादातर सदस्य मध्यम वर्ग से आते हैं और इस वर्ग की नब्ज से परिचित हैं.  मोदी की काशी के लिए सेवादल ने तैयार किया विशेष प्लान  बीते 9 अगस्त को 'अगस्त क्रांति दिवस' पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में तिरंगा यात्रा निकली थी. जिसमें काशी और प्रदेश के नेतृत्व के साथ सेवादल के राष्ट्रीय नेतृत्व तौर पर लालजी देसाई भी शामिल थे. सेवादल के मुख्य संगठक लालजी देसाई का कहना है कि 1936 में जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ महज 11 साल का था और हिंदू राष्ट्रवाद का ककहरा पढ़ रहा था, उस समय सेवादल और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने काशी में भारत माता के विशाल मंदिर निर्माण कराया. जिसका लोकार्पण स्वयं महात्मा गांधी ने किया.  लालजी देसाई कहते हैं कि इसबार संघ और बीजेपी को हिंदू-मुसलमान, श्मशान-कब्रिस्तान और दिवाली-रमजान नहीं करने देंगे. हम डोर टू डोर कैंपेन करेंगे और जब-जब वे जनता को भटकाने की कोशिश करेंगे सेवादल उन्हें मुद्दे पर लाने का काम करेगा. देसाई कहते हैं सेवादल बूथ स्तर तक कांग्रेस के साथ तालमेल बैठाते हुए सहयोग करेगा.  इसके लिए हर 10 बूथ पर सेवादल का बड़ा पदाधिकारी होगा जिसके नीचे 10 मध्य स्तर के कार्यकर्ता होंगे और उनके नीचे 10 और कार्यकर्ता होंगे. इस लिहाज से हर बूथ पर सेवादल का एक पिरामिड स्ट्रक्चर कार्य करेगा.  डर की राजनीति करता है संघ  संघ से दो साल पहले स्थापित सेवादल विस्तार और ताकत के लिहाज से काफी पीछे रह गया.  आजादी के बाद जब देश में कांग्रेस नेतृत्व की सरकारें बनी तो नेताओं को लगा कि अब सेवा का काम जब वे खुद कर रहे हैं तो सेवादल की क्या आवश्यकता. इस सवाल के जवाब में लालजी देसाई कहते हैं कि यह बात सही है कि सेवादल की भूमिका को सीमित कर दिया गया. राजीव गांधी के निधन के बाद सेवादल की सुध नहीं ली गई. संघ के विस्तार लालजी देसाई कहते हैं कि किसी अच्छे कार्य के लिए लोगों के इकट्ठा करने में मुश्किल आती है. लेकिन यदि सड़क पर कहीं लड़ाई हो रही हो तब बिना बुलाए लोग जमा हो जाते हैं. यह मौलिक बात है, संघ ने इसी का फायदा उठाया.  लालजी देसाई कहते हैं कि संघ ने आजादी के बाद यही तरीका अपनाया. जिसमें लोगों के बीच अफवाह फैलाया गया कि हिंदू खतरे में है, भारत माता खतरे में. जब लोगों में डर कायम हो जाए तो उनसे कहो आप इक्ट्ठा हो जाओ. उन्होंने कहा कि अभी अमेरिका में विश्व हिंदू कांग्रेस कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने शेर और कुत्ते की मिसाल देकर लोगों को एकजुट होने का संदेश दिया.  देसाई कहते हैं कि सेवादल का एक-एक कार्यकर्ता घर घर जाकर डर के पीछे की राजनीति को उजागर करेगा. देसाई ने उम्मीद जताई कि जनता सत्य को समझेगी और सत्य के साथ खड़ी होगी.

दरअसल मोदी सरकार में संघ का काफी विस्तार तो हुआ लेकिन वो स्वीकार्यता नहीं मिली जिसकी आरएसएस को उम्मीद थी. लिहाजा संघ प्रमुख ने बदलते माहौल के हिसाब से आरएसएस को एक समावेशी संगठन के तौर पर पेश किया. देश के सबसे पुराने दल कांग्रेस के लिए यह चिंता का विषय है. जिससे निपटने के लिए कांग्रेस ने फौजी अनुशासन और जज्बे की पहचान रखने वाले सेवादल के विस्तार की योजना बनाई है.

सेवादल की स्थापना एक महाराष्ट्री ब्राह्मण डॉ. नारायण सुब्बाराव हार्डिकर ने 1923 में हिंदुस्तान सेवादल के तौर पर की थी. सेवादल की स्थापना के ठीक दो साल बाद 1925 में एक और महाराष्ट्री ब्राह्मण डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार ने आरएसएस की स्थापना की. कम लोगों को पता होगा कि हेडगेवार और हार्डिकर एक दूसरे के सहपाठी थें और शुरुआती दिनों में साथ-साथ सक्रिय थे. लेकिन, हार्डिकर पर महात्मा गांधीज का प्रभाव था तो हेडगेवार ‘हिंदू राष्ट्र’ की संकल्पना लेकर आगे बढ़ें.

सेवादल और संघ की कहानी भी ‘खरगोश और कछुआ’ जैसी ही है. आजादी के बाद सेवादल के पास अपना कोई लक्ष्य नहीं रहा. कांग्रेस में उपेक्षित होने के कारण इसकी भूमिका उत्सवी रवायत बन कर रह गई. जबकि, संघ अपने हिंदू राष्ट्र के सपने को साकार करने की दिशा में कछुआ गति से आगे बढता रहा.

संघ, बीजेपी का मातृ संगठन है. लेकिन इसके ठीक विपरीत कांग्रेस मातृ संगठन है सेवादल अनुषांगिक. कभी कांग्रेस में शामिल होने से पहले सेवादल की ट्रेनिंग जरूरी होती थी. इंदिरा गांधी ने राजीव गांधी की कांग्रेस में एंट्री सेवादल के माध्यम से ही कराई थी.

लेकिन हर बार सत्ता मिलते ही संगठन को भूल जाना कांग्रेस की शैली बन गई. कांग्रेस जब-जब परेशानी में रही, सेवादल के सिपाही आगे आते रहे. ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद जब कांग्रेस के लिए पंजाब में काम करना मुश्किल था, तब सेवादल ने हिंसा के बीच रहकर संगठन का काम किया. जब 1977 में सत्ता से बाहर होते ही इंदिरा गांधी की सुरक्षा कम कर दी गई तो सेवादल ने चौबीसों घंटे उनकी सुरक्षा की. राजीव गांधी के सत्ता से बाहर होने पर भी सेवादल की जिम्मेदारी बढ़ गई थी.

आज जब कांग्रेस ऐसे ही संकट का सामना कर रही है, तो उसे फिर से अपनी जड़ों की तरफ झांकने की जरूरत पड़ रही है. सेवादल के इस विस्तार के कार्यक्रम को समझने के लिए उसके मुख्य संगठक या राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई से aajtak.in ने खास बातचीत की है.

संघ के ‘डंडे’ का जवाब ‘झंडे’ से देगा सेवादल

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने तीन दिवसीय भारत का भविष्य कार्यक्रम में कहा था कि तिरंगे का हम सम्मान करते हैं, लेकिन भगवा हमारा गुरू. संघ की शाखा में और शहरों-कस्बों में होने वाले प्रभातफेरी में आरएसएस के कार्यकर्ता अपने कंधे पर डंडा लेकर चलते हैं. सेवादल के मुख्य संगठक लालजी देसाई कहते हैं कि डंडा हिंसा का प्रतीक है. संघ के लोग भगवा झंडे के समक्ष आधा सलाम करते हैं जबकि सेवादल देश के तिरंगे को पूरा सलाम करता है. उनके सिर पर काली टोपी है और हमारे सिर पर सफेद. काला रंग गुस्से का प्रतीक है, जबकी सफेद शांति का प्रतीक है. लालजी देसाई कहते हैं तिरंग त्याग और भाइचारे का संदेश देता है जबकि भगवा सिर्फ एक धर्म का प्रतिनिधित्व करता है.

कांग्रेस की तरफ से सेवादल के व्यापक विस्तार को हरी झंडी मिल गई है. लालजी देसाई कहते हैं कि आने वाले दिसंबर में सेवादल की स्थापना के दिन देश में 5000 महत्वपूर्ण जगहों पर ध्वजा रोहण के साथ सेवादल संघ के खिलाफ अपना अभियान शुरू करेगा. देसाई कहते हैं कि हम संघ के डंडे का जवाब झंडे से देंगे.

बदलते समय के साथ सेवादल की संरचना में भी बदलाव

संगठनात्मक दृष्टिकोण से सेवादल और संघ की संरचना लगभग एक तरह की है. लेकिन सेवादल अब अपनी यूथ विंग और महिला विंग भी खड़ा कर रहा है. लालजी देसाई कहते हैं कि सेवादल का संगठन हर ब्लाक/प्रखंड और गांव में मौजूद है. देशभर में हमारे सदस्य हैं जो निःस्वार्थ भाव से जुड़े हैं. लाखों लोग सिर्फ भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हैं. ये ऐसे लोग हैं जो सत्ता के लिए संगठन में नहीं आए.

लालजी देसाई कहते हैं कि सेवादल में आने वाले समय में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा. अब तक कांग्रेस के कार्यक्रम में अनुशासन की जिम्मेदारी तक सीमित कर दिया गया सेवादल एक बार फिर से जनजागरण और नेतृत्व निर्माण का कार्य करने जा रहा है और यह प्रक्रिया अब सतत चलेगी. जिसका असर आगामी विधानसभा और लोकसभा चुनाव में देखने को मिलेगा.

Loading...

राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद लोकसभा चुनाव पर भी जोर

साल के अंत में होने वाले मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनाव में तकरीबन 75 सीटों पर कांग्रेस ने विशेष रणनीति तैयार की है. सेवादल के मुख्य संगठक बीजेपी के दिग्गजों को घेरने के लिए कांग्रेस सेवादल उन सीटों पर डोर टू डोर प्रचार अभियान चलाने जा रहा है जहां पिछले कई चुनावों में कांग्रेस को लगातार हार झेलनी पड़ी है.

घर घर दस्तक देने के इस अभियान के लिए संगठन की तरफ से मध्यप्रदेश की ऐसी 30, राजस्थान की  25 और छत्तीसगढ़ में 20 सीटों का चुनाव किया जा रहा है, जहां सेवा दल की विशेष रूप से प्रशिक्षित टीमें कांग्रेस के लिए प्रचार करेंगी.

लालजी देसाई कहते हैं कि लोकसभा चुनाव तक सेवादल के विस्तार का कार्य पूरा कर लिया जाएगा. जिसके बाद लोकसभा की कुछ सीटों पर व्यापक और कुछ सीटों पर घनिष्ट प्रचार अभियान चलाया जाएगा. एक समय था जब कांग्रेस और जनता के बीच सेवादल एक सेतु की तरह काम करता था. आज भी इसके ज्यादातर सदस्य मध्यम वर्ग से आते हैं और इस वर्ग की नब्ज से परिचित हैं.

मोदी की काशी के लिए सेवादल ने तैयार किया विशेष प्लान

बीते 9 अगस्त को ‘अगस्त क्रांति दिवस’ पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में तिरंगा यात्रा निकली थी. जिसमें काशी और प्रदेश के नेतृत्व के साथ सेवादल के राष्ट्रीय नेतृत्व तौर पर लालजी देसाई भी शामिल थे. सेवादल के मुख्य संगठक लालजी देसाई का कहना है कि 1936 में जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ महज 11 साल का था और हिंदू राष्ट्रवाद का ककहरा पढ़ रहा था, उस समय सेवादल और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने काशी में भारत माता के विशाल मंदिर निर्माण कराया. जिसका लोकार्पण स्वयं महात्मा गांधी ने किया.

लालजी देसाई कहते हैं कि इसबार संघ और बीजेपी को हिंदू-मुसलमान, श्मशान-कब्रिस्तान और दिवाली-रमजान नहीं करने देंगे. हम डोर टू डोर कैंपेन करेंगे और जब-जब वे जनता को भटकाने की कोशिश करेंगे सेवादल उन्हें मुद्दे पर लाने का काम करेगा. देसाई कहते हैं सेवादल बूथ स्तर तक कांग्रेस के साथ तालमेल बैठाते हुए सहयोग करेगा.

इसके लिए हर 10 बूथ पर सेवादल का बड़ा पदाधिकारी होगा जिसके नीचे 10 मध्य स्तर के कार्यकर्ता होंगे और उनके नीचे 10 और कार्यकर्ता होंगे. इस लिहाज से हर बूथ पर सेवादल का एक पिरामिड स्ट्रक्चर कार्य करेगा.

डर की राजनीति करता है संघ

संघ से दो साल पहले स्थापित सेवादल विस्तार और ताकत के लिहाज से काफी पीछे रह गया.  आजादी के बाद जब देश में कांग्रेस नेतृत्व की सरकारें बनी तो नेताओं को लगा कि अब सेवा का काम जब वे खुद कर रहे हैं तो सेवादल की क्या आवश्यकता. इस सवाल के जवाब में लालजी देसाई कहते हैं कि यह बात सही है कि सेवादल की भूमिका को सीमित कर दिया गया. राजीव गांधी के निधन के बाद सेवादल की सुध नहीं ली गई. संघ के विस्तार लालजी देसाई कहते हैं कि किसी अच्छे कार्य के लिए लोगों के इकट्ठा करने में मुश्किल आती है. लेकिन यदि सड़क पर कहीं लड़ाई हो रही हो तब बिना बुलाए लोग जमा हो जाते हैं. यह मौलिक बात है, संघ ने इसी का फायदा उठाया.

लालजी देसाई कहते हैं कि संघ ने आजादी के बाद यही तरीका अपनाया. जिसमें लोगों के बीच अफवाह फैलाया गया कि हिंदू खतरे में है, भारत माता खतरे में. जब लोगों में डर कायम हो जाए तो उनसे कहो आप इक्ट्ठा हो जाओ. उन्होंने कहा कि अभी अमेरिका में विश्व हिंदू कांग्रेस कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने शेर और कुत्ते की मिसाल देकर लोगों को एकजुट होने का संदेश दिया.

देसाई कहते हैं कि सेवादल का एक-एक कार्यकर्ता घर घर जाकर डर के पीछे की राजनीति को उजागर करेगा. देसाई ने उम्मीद जताई कि जनता सत्य को समझेगी और सत्य के साथ खड़ी होगी.

Loading...