कोलंबिया की जेल में आग लगने से 53 कैदियों की मौत और कई लोग हुए घायल…

पश्चिमी कोलंबियाई शहर तोलुआ (Tolua) की एक जेल में मंगलवार को आग लगने से 53 कैदियों की मौत हो गई। जबकि कई घायल हो गए। घायलों में गार्ड्स भी शामिल हैं। यह हादसा तब हुआ, जब कैदियों ने दंगा करने के बाद गद्दों में आग लगा दी। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार सुबह तड़के एक भीड़ भाड़ वाली कोलंबियाई जेल के अंदर आग लग गई। कोलंबिया के न्याय मंत्री विल्सन रुइज ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि लगभग 2 बजे (स्थानीय समयानुसार) कैदियों के बीच लड़ाई छिड़ गई। एक कैदी ने विवाद के दौरान एक गद्दे में आग लगा दी, जिसके बाद आग की लपटें पूरे जेल में फैल गई। दमकलकर्मियों के आने का करना पड़ा इंतजार रुइज ने कहा, ‘आग की लपटें बहुत तेज थीं। हमें स्थिति को नियंत्रित करने के लिए दमकलकर्मियों के आने का इंतजार करना पड़ा।’ उन्होंने कहा, ‘इस जेल में कैदी या तो मामूली सजा काटते हैं या अपनी कैद के आखिरी कुछ महीनों को खत्म करते हैं। कोलंबिया की जेलों में इस समय बहुत भीड़भाड़ है। औसतन, अधिकांश क्षमता से 20 प्रतिशत अधिक हैं। सबसे घातक घटनाओं में से एक
  • रुइज ने कहा कि जिस जेल में आग लगी थी, वह क्षमता से 17 प्रतिशत अधिक थी, जिससे यह देश की सबसे कम आबादी वाली जेलों में से एक बन गई।
  • सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना देश के हाल के इतिहास में अपनी तरह की सबसे घातक घटनाओं में से एक है।
पहले भी हो चुके हैं दंगे कोलम्बिया और पड़ोसी देशों में जेलों में घातक लड़ाई और दंगे असामान्य नहीं हैं। मार्च 2020 में, बोगोटा में पिकोटा जेल में एक दंगे में 24 कैदियों की मौत हो गई क्योंकि वे प्रायद्वीप प्रणाली के भीतर कोरोनोवायरस उपायों का विरोध कर रहे थे। पिछले साल, ब्राजील की एक जेल में 50 से अधिक मारे गए थे, जिनमें से 16 का सिर काट दिया गया था। वहीं, 2018 में वेनेजुएला की एक जेल में लगी आग में कई लोग मारे गए थे।
Loading...
E-Paper