जिलिंगो कंपनी की सीईओ अंकिती बोस को इस कंपनी ने क‍िया बर्खास्‍त, लगा था यह बड़ा आरोप

भारतीय मूल की एक और सीईओ को वित्तीय अनियमितताओं की श‍िकायत म‍िलने के बाद बर्खास्‍त कर द‍िया गया है. यह कार्रवाई सिंगापुर की कंपनी Zilingo की तरफ से हुई है. दरअसल, सिंगापुर के फैशन स्टार्टअप जिलिंगो (Zilingo) की तरफ से शुक्रवार को बताया गया क‍ि गंभीर वित्तीय अनियमितताओं की शिकायतों का ऑडिट कराने के बाद भारतीय मूल की को-फाउंडर एवं चीफ एग्‍जीक्‍यूट‍िव ऑफ‍िसर (CEO) अंकिती बोस (Ankiti Bos) को बर्खास्त कर दिया गया है.

अंकिती के ख‍िलाफ कानूनी कार्रवाई का अधिकार

जिलिंगो (Zilingo) कंपनी के अकाउंट में गड़बड़ियां मिलने की शिकायत के बाद 31 मार्च को अंकिती को निलंबित कर दिया गया था. जिलिंगों की तरफ से एक बयान जारी कर कहा गया, ‘एक न‍िष्‍पक्ष फॉरेंसिक कंपनी ने वित्तीय अनियमितताओं संबंधी शिकायतों की जांच की. इसके बाद ही अंकिती बोस को बर्खास्त करने का फैसला क‍िया गया. कंपनी को अंकिती के ख‍िलाफ कानूनी कार्रवाई करने का भी अधिकार है.’

31 मार्च को निलंबित कर द‍िया गया

हालांकि कंपनी की तरफ से इस बारे में ज्‍यादा जानकारी नहीं दी गई. कंपनी ने यह भी नहीं बताया क‍ि बोस के खिलाफ क्‍या आरोप हैं और जांच में क्या सामने आया है? जिलिंगो (Zilingo) की तरफ से यह भी बताया गया क‍ि बोस ने उत्पीड़न के आरोप उस समय लगाए, जब उन्‍हें 31 मार्च को निलंबित कर द‍िया गया. जांच में यह भी साबित हो चुका है क‍ि कंपनी ने उचित कार्रवाई की है.

कंपनी की तरफ से आरोपों की जांच के ल‍िए कंसल्टिंग कंपनी हायर की गई थी. इस कंपनी की तरफ से अपनी रिपोर्ट में बताया गया क‍ि कंपनी ने आरोपों पर उचित कार्रवाई की. मीडिया में ऐसी भी खबरें हैं क‍ि शोषण के आरोपों को दबाने के लिए अंक‍िती के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई.

Loading...
E-Paper