MP के जबलपुर में गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान ड्रोन गिरने से नृत्य दल के दो कलाकार जख्मी

जबलपुर में  73वें गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान बड़ा हादसा टल गया। समारोह के दौरान वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी के लिए आसमान पर मंडरा रहे एक बड़़े ड्रोन के अचानक गिर जाने से नृत्य दल के दो कलाकारों को चोटें आईं। इससे समारोह में कुछ देर के लिए भगदड़ सी मच गई।

गणतंत्र दिवस समारोह जबलपुर के रविशंकर शुक्ल क्रीड़ा मैदान पर आयोजित किया गया था। इसमें ड्रोन कैमरे से वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी हो रही थी। यह ड्रोन कैमरा नृत्य दलों की प्रस्तुति और झांकियों के प्रदर्शन के दौरान अचानक गिर गया। उस समय परेड की सलामी लेकर प्रभारी मंत्री गोपाल भार्गव मंच पर मौजूद थे। ड्रोन गिरने से दो आदिवासी युवक एक महिला और एक बच्ची गंभीर रूप से घायल हो गए जिन्हे शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जंहा उनकी हालत खतरे से बाहर बतायी जा रही है।

कौन चला रहा था ड्रोन 
ड्रोन को जबलपुर इंजीनियरिंग का छात्र अभिनव सिंह चला रहा था , ये अभिनव सिंह वही छात्र है जिसने खेती के लिए अब तक का सबसे बढ़ा ड्रोन बनाया है.ये ड्रोन 50 किलो वजन के साथ 6  मिनिट में एक एकड़ खेत में खाद और कीटनाशक दवा का छिड़काव कर सकता है। 

मुख्यमंत्री ने किया था अभिनव का सम्मान 
इंजीनियरिंग छात्र अभिनव द्वारा बनाये गए इस ड्रोन को लेकर देश भर में चर्चा थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जब ड्रोन के बारे में जानकारी लगी थी तब उन्होंने अभिनव का भोपाल में सम्मान भी किया था। अभिनव ने दावा किया था की उसने देश का अबतक का सबसे बढ़ा ड्रोन बनाया है। 20 किलो वजनी यह ड्रोन अपने साथ 50 किलो तक की सामग्री ले जा सकता है।

युवक को पुलिस ने किया गिरफ्तार 
गणतंत्र दिवस समारोह में ड्रोन गिरने के बाद पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच की जा रही है की आखिर कैसे ड्रोन निचे गिरा। घटना के वक्त मंच पर मौजूद प्रभारी मंत्री भार्गव ने घायल कलाकारों की सुध तक नहीं ली। 

घटना के बाद उठे सवाल
घटना के बाद अब सवाल उठा है कि बड़े ड्रोन कैमरे को गणतंत्र दिवस समारोह में उड़ाने की अनुमति ली गई या नहीं। वीआईपी कार्यक्रम में ड्रोन कैमरे को उड़ाने के लिए कार्यक्रम में तकनीकी जांच परख की गई या नहीं।

Loading...
E-Paper