कुछ इस तरह प्रवासियों से मिलने पहुँची ट्रंप की पत्नी मेलानिया, हुआ बवाल

- in अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को अपनी विवादित प्रवासी नीति को वापस ले लिया. इसके एक दिन बाद गुरुवार को उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप प्रवासी नीति की वजह से विस्थापित बच्चों से मिलने के लिए टेक्सास पहुंची. मेलानिया ट्रंप के प्रवक्ता ने बताया कि वह इस विवादस्पद मुद्दे की गहराई से परवाह करती हैं, इसलिए उन्होंने बच्चों के हिरासत केंद्रों का दौरा करने का फैसला किया, लेकिन इस यात्रा के दौरान मेलानिया ने जो जैकेट पहनी थी, वह एक अलग ही संदेश दे रही थी.

मेलानिया ने जिस वक्त टेक्सास के लिए उड़ान भरी, तब उन्होंने मीडिया के सामने जारा की हरे रंग की खाकी जैकेट पहनी हुई थी. इस जैकेट के पीछे लिखा हुआ था, ‘मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता, क्या आपको पड़ता है?’ पूर्व में फैशन मॉडल रह चुकी अमेरिका की प्रथम महिला अपने कपड़ो के बारे में फैशन सलाहकार हेर्वे पियरे से सलाह लेती हैं. जैकेट को लेकर मिलेनिया ट्रंप की प्रवक्ता स्टेफिन ग्रीष्म ने कहा, “यह एक जैकेट है. इसमें कोई संदेश नहीं छिपा है. मुझे उम्मीद है कि टेक्सास की इस महत्वपूर्ण यात्रा के बाद मीडिया उनके कपड़ो पर ध्यान केंद्रित नहीं करेगा.”

मेलानिया ट्रंप की टेक्सास की अचानक यात्रा ट्रंप द्वारा बच्चों को उनके परिवार से अलग न करने के शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर के बाद हुई. ट्रंप की नई प्रवासी नीति के कारण अमेरिका में अवैध रूप से प्रवेश करने वालों को हिरासत में लेकर उनके बच्चों को उनसे अलग कर दिया जा रहा था.

टेक्सास में मेलानिया ने हिरासत में लिए गए बच्चों की देखभाल कर रहे स्टाफ से मुलाकात की और अधिकारियों से सुविधाओं का जायजा लिया. यहां एक केंद्र में 12-17 साल के 55 बच्चों को रखा गया है. अधिकारियों ने संवाददाताओं को बताया कि उनमें से 6 बच्चे सीमा पार करने के बाद अपने माता-पिता से अलग हो गए थे.

‘न्यू होप चिल्ड्रेन सेंटर’ में मेलानिया ट्रंप ने स्वास्थय एवं मानव सेवा सचिव एलेक्स अजर से अलग से बातचीत की और बच्चों की देखभाल करने वालों को समझाया कि उनके साथ किस तरह से व्यवहार किया जाता है.

Loading...

“मुझे खुशी है कि मैं यहां हूं और मैं बच्चों को देखने और उनसे मिलने की उम्मीद कर रही हूं, लेकिन सबसे पहले आप सभी जो काम कर रहे हैं और बच्चों के लिए जो कुछ भी कर रहे हैं उसके लिए आपको धन्यवाद देना चाहती हूं,” मेलानिया ट्रंप ने कहा. इसके साथ ही मेलानिया ने पूछा कि वह बच्चों को उनके परिवार से मिलवाने में किस प्रकार से सहायता कर सकती हैं.

अपनी यात्रा के दौरान मेलानिया ने एक क्लासरूम का दौरा भी किया और 20 लड़के-लड़कियों बातचीत की. एक कक्षा में बच्चों को 4 जुलाई को स्वतंत्रतता दिवस की छुट्टी के बारे में पढ़ाया जा रहा था. क्लासरूम की एक दीवार पर हाथ से चित्रित अमेरिका का झंडा था जिस पर बच्चों ने हस्ताक्षर किए थे. मेलानिया ट्रंप ने भी इस पर हस्ताक्षर किए.

बुधवार को जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रवासी नीति को लेकर अपने विवादित फैसले को वापस लिया तो बताया गया कि इसके पीछे उनकी पत्नी मेलानिया और बेटी इंवाका ट्रंप द्वारा बनाया गया दबाव है. फैसले को वापस लेने के बाद ट्रंप ने कहा, “इवांका को इससे दुख हुआ, मेरी पत्नी को इससे दुख हुआ, मुझे भी इससे दुख पहुंचा. मुझे नहीं लगता कि दुनिया में जिसके पास दिल है उसे परिवारों के बिछड़ने से दुख नहीं होगा.”

वहीं मेलानिया द्वारा पहनी गई जैकेट पर डोनाल्ड ट्रंप ने न केवल उनका बचाव किया बल्कि मीडिया पर भी निशाना साधा. ट्रंप ने ट्वीट करते हुए लिखा, “वास्तव में मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है, क्या आपको पड़ता है? मेलानिया की जैकेट के पीछे का यह संदेश फेक न्यूज मीडिया के लिए था. मिलेनिया को पता चल चुका है कि वे कितने बेईमान हैं और वह सच में उनकी परवाह नहीं करती.”

Loading...