दलित ने लगाया बरात का रास्ता रोकने का आरोप, फरीदाबाद में सामने आया मामला

Loading...

 दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद जिले में सवर्णों (राजपूत समुदाय) पर अनुसूचित जाति के लोगों ने युवक की बरात का रास्ता रोकने पर आरोप लगाया है, दूसरी तरफ राजपूतों का कहना है कि तीन बुजुर्गों के दिल का ऑपरेशन हुआ था। हमने सिर्फ तीव्र संगीत कम करने का आग्रह किया था। राजपूतों का आरोप है कि इतनी सी बात पर अनुसूचित जाति के लोगों ने पुलिस को शिकायत दे दी। घटना फरीदाबाद के गांव महावतपुर की है। भूपानी थाने के पुलिस ने शिकायत पर राजपूत युवकों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

अनुसूचित जाति के कल्लूराम ने पुलिस को बताया कि उनकी बेटी की बरात आई थी। रात साढ़े नौ बजे जब बरात चलनी शुरू हुई तो राजपूत समुदाय के युवकों ने ट्रैक्टर खड़ा कर रास्ता रोक दिया। कहासुनी भी हुई। झगड़े से बचने के लिए वह बरात दूसरे रास्ते से निकालकर ले गए। लड़की को विदा करने के बाद रविवार सुबह वे भूपानी थाने पहुंचे और घटना की शिकायत दी।

उधर, आरोपित युवकों के पिता का कहना है कि हमारे घर और पड़ोस में दो-तीन बुजुर्गों के हृदय की बाइपास सर्जरी हुई है। उन्हें तेज आवाज से समस्या होती है। रात में जब बरात में तेज संगीत बज रहा था तो बच्चों ने आवाज कम करने का आग्रह किया। बस, इसको लेकर कुछ कहासुनी हुई थी। रास्ता रोकने जैसी कोई बात ही नहीं थी। पहले भी गांव में सभी की बरात उसी रास्ते से निकलती रही हैं। गांव के सरपंच भानसिंह ने भी यही बात कही। उन्होंने कहा, रात में इस बारे में सूचना मिली तो मैं तुरंत मौके पर पहुंचा और विवाद शांत कराया। गांव में अनुसूचित जाति के लोग और राजपूत हमेशा से से भाईचारे के साथ रहते हैं।

एसीपी कर रहे जांच

भूपानी थाने के प्रभारी कुलदीप सिंह ने के बताया कंट्रोल रूम से गांव महावतपुर में झगड़े की सूचना मिली थी। इस पर टीम जब पहुंची तो शिकायतकर्ता परिवार शादी की रस्मों में लगा हुआ था। सुबह उन लोगों ने शिकायत दी। मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जांच एसीपी कर रहे हैं।

Loading...