दो गांवो के पांच घरों मे डाका, प्रधान के बेटे की हत्याकर आठ को मारी गोली

 चिनहट डकैती और नाका मे लूटपाट कर महिला की हत्या के बाद तीसरे दिन बदमाशो ने पुलिस को फिर खुली चुनौती दी। काकोरी के बनियाखेड़ा और कटौली गांव के पांच घरो मे शनिवार देर रात फिल्मी स्टाइल मे डकैती डालकर सनसनी फैला दी। थाने से थोड़ी दूरी पर नकाबपोश हथियारो से लैस दर्जनभर से अधिक बदमाशो ने कटौली गांव के प्रधान हरिशंकर यादव के बेटे अभिषेक उर्फ कोमल यादव (20) की गोली मारकर हत्या कर दी। विरोध पर दोनो गांवो मे आठ लोगो को गोली मारी, जबकि दो महिलाओ को जमकर पीटा।

दो गांवो के पांच घरों मे डाका, प्रधान के बेटे की हत्याकर आठ को मारी गोली

बदमाशो ने सौ से अधिक राउंड गोलीबारी की। गांव और सड़को पर खोखे फैले मिले। पुलिस ने घटनास्थल पर मिले खोखा कारतूसो को कब्जे मे ले लिया है। चार घायलो का ट्रॉमा सेटर मे इलाज चल रहा है। ग्रामीणो का आरोप है कि बदमाश लोगो को घरो मे बंधक बनाकर जेवर, नकदी समेत अन्य सामान लूटते रहे और पुलिस गांव के बाहर हाथ बांधे खड़ी रही। जब बदमाश डकैती की वारदात को अंजाम देकर भाग निकले तब पुलिस गांव मे घुसने की हिम्मत जुटा सकी। एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक पीडि़त परिवारो की तहरीर पर अज्ञात बदमाशो के खिलाफ एफआइआर दर्ज करके उनकी तलाश की जा रही है। घटना के बाद काकोरी एसओ यशकांत सिंह को हटा दिया गया है। बावरिया, बंजारा, छहमार, कच्छा बनियान समेत अन्य गिरोहो के बदमाशो पर पुलिस को शक है। बदमाशो को पकड़ने के लिए पुलिस के साथ क्राइम ब्रांच, सर्विलांस, एसटीएफ समेत छह टीमो को लगाया गया है।

बनियाखेड़ा गांव मे रात एक बजे के पहले सबकुछ सामान्य था। यहां सवा एक बजे के करीब बदमाशो ने पूर्व प्रधान इंद्रपाल यादव के घर धावा बोला और ताबड़तोड़ कई राउंड गोलीबारी की। घटना के समय इंद्रपाल अपनी पत्नी सरोजनी के साथ बाहर कमरे मे सो रहे थे। सरोजनी ने दरवाजे की दराज से एक बदमाश को देखकर शोर मचाया तो उसने गोली चला दी, हमले मे वह बाल-बाल बच गई। इंद्रपाल चारपाई के नीचे छुप गए। घटना के समय दंपती के अतिरिक्त घर मे अंदर एक कमरे मे उनका बड़ा बेटा शैलेद्र अपनी पत्नी नीरज, बच्चे अंशिका, हर्षिका व दूसरे कमरे मे छोटा बेटा शैलेद्र सो रहा था, उसकी पत्नी मंजू मायके मे है। बदमाशो को देखकर सभी ने अपने को कमरो मे कैद कर लिया। यहां से बदमाश सात हजार रुपये, जेवर लूट ले गए। शोर शराबा सुनकर पड़ोसी फतेहबहादुर का बेटा देवेद्र (27) बचाने दौड़ा तो बदमाशो ने उसके पैर मे गोली मार दी। फतेहबहादुर के छत पर भी बदमाश चढ़े, लेकिन उनके घरवालो के लाठी-डंडा लेकर विरोध पर घर मे नही घुस पाए। यही बदमाशो ने फतेहबहादुर के पड़ोसी गंगाराम रावत की बेटी शालू (22) के हाथ मे गोली मार दी। किसान फूलचंद्र ने दरवाजा खोलकर विरोध का प्रयास किया तो एक बदमाश ने इंद्रपाल के घर के बाहर से उनके दरवाजे पर गोली मारी, हमले मे वह बाल-बाल बच गए। इसके बाद बदमाशो ने राजगीर मिस्त्री सुनील कुमार के घर धावा बोला। सुनील ने परिवार सहित खुद को घर मे कैद कर लिया। यहां से बदमाश जेवर व 2700 रुपये लूट ले गए। आखिरी मे बनियाखेड़ा गांव निवासी जगतपाल के वहां बदमाशो ने धावा बोला। यहां बदमाशो ने विरोध पर जगतपाल के ससुर रघुनाथ और बेटे अंकित को गोली मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया।

कटौली गांव के प्रधान हरिशंकर यादव का बहादुर बेटा अभिषेक उर्फ कोमल यादव (20) गांव मे डकैतो की आहट पाकर अकेले ही उनका सामना करने निकल पड़ा। एक बदमाश ने उसे गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। घटना के विरोध मे प्रधान ने अपने लाइसेसी असलहे से गोली चलाई तब बदमाश भाग निकले। कटौली गांव मे बदमाशो ने साढ़े तीन बजे सबसे पहले कैलाश के घर दस्तक दी थी। बदमाशो ने यहां कैलाश और उसके पांच वर्षीय बेटे निशांत के कनपटी पर असलहा सटाकर विरोध कर रही उसकी पत्नी को जमकर पीटा और जेवर व नकदी बटोर ले गए। इसके साथ ही बदमाशो ने यहां चक्की चलाने वाले रमाशंकर के पैर मे गोली मार दी। उनके भाई रमेश और दादी मधुरानी को जमकर पीटा।

 
Loading...
E-Paper