यहां जमीन के नीचे दबा मिला खोया हुआ प्राचीन ‘सूर्य मंदिर’

आजकल कई जगहों पर खुदाई में ऐसी-ऐसी चीजें मिल जाती हैं जो चौकाने वाली रहती है। अब हाल ही में मिस्र में पुरातत्व विभाग ने एक और प्राचीन सूर्य मंदिर ढूंढ निकाला है, जिसे 4500 साल पुराना बताया जा रहा है। जी हाँ और कच्ची ईंटों से बनी इस इमारत के अवशेषों को देखकर अनुमान लगाया जा रहा है कि यह सूर्य मंदिर मिस्र के 5वें साम्राज्य (2465-2323 BC) का हो सकता है। आप सभी को बता दें कि ये पहली बार नहीं है, जब मिस्र में सूर्य मंदिर के अवशेष मिले हों। जी दरअसल बीते साल भी साढे चार हजार साल पुराने सूर्य मंदिर के अवशेष मिले थे। आपको बता दें कि मिस्र के टूरिज्म एंड एंटीक्यूटिज मिनिस्ट्री ने इंस्टाग्राम पर नई रोमांचक खोज की घोषणा की है।

इसके अलावा आपको बता दें कि मिस्र में इटली और पोलैंड का एक ज्वॉइंट आर्कियोलॉजिकल मिशन चल रहा है, जिसके तहत ये अवशेष मिले हैं। जी दरअसल टूरिज्म एंड एंटीक्यूटिज मिनिस्ट्री ने 30 जुलाई को इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर की है। इसमें मिनिस्ट्री की ओर से बताया गया है कि मिस्र में इटली और पोलैंड की ओर से संयुक्त खोज अभियान चलाया जा रहा है। जी हाँ और इसी अभियान के तहत मंदिर के अवशेष मिले हैं। वहीं पुरातत्व विभाग की ज्वॉइंट टीम राजा नुसेरे के मंदिर पर काम कर रही है और इसी मंदिर के नीचे कच्ची ईंटों से बनी इमारत के अवशेष मिले हैं। सामने आने वाली रिपोर्ट्स के मुताबिक, साढ़े 4 हजार साल पुराना यह सूर्य मंदिर राजधानी काहिरा के दक्षिणी हिस्से में बसे अबुसीर इलाके में दबा मिला है। यह राजा नुसेरे के मंदिर के नीचे दबा हुआ था

टूरिज्म एंड एंटीक्यूटिज मिनिस्ट्री ने अपने बयान में यह भी बताया है कि यह मंदिर 5वें सम्राज्य में खोए हुए 4 सूर्य मंदिरों में से एक हो सकता है, जिसका इतिहास के किताबों में भी उल्लेख है। इसके अलावा मिनिस्ट्री के मुताबिक, 5वें साम्राज्य के छठे शासक के कहने पर सूर्य मंदिर के कुछ हिस्सों को ध्वस्त करवा दिया गया था, ताकि वह वहां अपना मंदिर बनवा सके। इमारत के अंदर से मिट्टी के कुछ बर्तन और ग्लास भी मिले हैं। इसके अलावा जमीन में दबे कुछ टिकट भी मिले हैं, जिन पर 5वें साम्राज्य के राजाओं के नाम हैं।

Loading...
E-Paper