BMS ने डीए और डीआर बकाया जल्द से जल्द जारी करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप की मांग की….

Bharatiya Pensioners Manch (BMS) ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता (डीए) और महंगाई राहत (डीआर) बकाया जल्द से जल्द जारी करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप की मांग की है। पिछले साल अप्रैल में, वित्त मंत्रालय ने COVID-19 महामारी के कारण 30 जून, 2021 तक महंगाई भत्ते (DA) में वृद्धि पर रोक लगा दी थी।

इस साल जुलाई में, सरकार ने 1 जुलाई, 2021 से DA और DR को बढ़ाकर 28 फीसद का कर दिया था, जिससे केंद्र सरकार के 48 लाख से अधिक कर्मचारियों और 65 लाख पेंशनभोगियों को लाभ हासिल हुआ था। 1 जनवरी 2020 से 30 जून 2021 तक DA की दर 17 फीसदी थी। इस प्रकार केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए क्रमशः कोई डीए और डीआर बकाया जारी नहीं किया गया था।

प्रधानमंत्री को लिखे गए पत्र में, बीएमएस ने कहा है कि, “आपसे इस मामले में हस्तक्षेप करने और वित्त मंत्रालय को 1 जनवरी, 2020 से 30 जून, 2021 तक फ्रीज डीए / डीआर को जल्द से जल्द जारी करने का निर्देश देने का आग्रह किया जाता है। इस संगठन को उत्तर की एक पंक्ति के साथ एक जल्द और तत्काल कार्रवाई की काफी सराहना की जाएगी।”

 

इसके साथ बीएमएस ने यह भी कहा है कि, ” इस (डीए/डीआर फ्रीज) दौरान खुदरा मंहगाई भी बढ़ी थी और ऑटो ईंधन, खाद्य तेल और कई दालों की कीमत रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ गई थी।”

बीएमएस के अनुसार “डीए/डीआर के भुगतान का मूल आधार कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को जीवन यापन की लागत में वृद्धि के लिए मुआवजा देना है। जीवन यापन की लागत बढ़ने के बाद, कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को मुआवजे से इनकार करना सही नहीं है।”

 

इसके अलावा बीएमएस के लिखे पत्र में यह भी कहा गया है कि, “अधिकांश पेंशनभोगियों को उनके बुढ़ापे में चिकित्सा सहायता की आवश्यकता होती है और अब COVID-19 के संकट के कारण हर वस्तु की दर कई गुना बढ़ गई है।”

“ज्यादातर पेंशनभोगी वित्तीय परेशानी की स्थिति में हैं। जो पेंशनभोगी वरिष्ठ नागरिक हैं, वे COVID-19 की लड़ाई में सबसे कमजोर हैं और इस समय उनके मामले में DR को रोकना सरकार की ओर से एक अच्छा फैसला नहीं है।”

“बेशक, देश COVID-19 के कारण आर्थिक संकट से गुजर रहा है, लेकिन ज्यादातर पेंशनभोगियों ने पहले ही प्रधानमंत्री केयर्स फंड में एक दिन की पेंशन का योगदान दिया है।”

Loading...
E-Paper