पंजाब में 22 लाख से ज्यादा लोगों को लगी कोरोना वैक्सीन, मात्र 26 हुए संक्रमित

कोरोना वैक्सीन को लेकर भले ही लोगों में अभी भी भ्रम की स्थिति बनी हुई हो। बड़ी संख्या में लोग अभी भी वैक्सीनेशन करवाने से डर रहे हैं, लेकिन आंकड़े बयां करते हैं कि वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। पंजाब में अभी तक 22 लाख 22 हजार 299 लोगों को कोरोना वैक्सीन लग चुकी है। इसमें से 2.17 लाख लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई जा चुकी है।

पंजाब में वैक्सीन लगवाने के बाद अभी तक मात्र 26 लोगों को ही कोरोना हुआ है। इसके औसत की गणना करना भी मुश्किल है, क्योंकि इसका औसत .00001 के करीब बनता है। महत्वपूर्ण बात यह है कि राज्य में अभी तक कोई भी ऐसा केस नहीं आया है, जिसने कोरोना वैक्सीन लगाई हो और उसके बाद उसकी मौत हुई हो, जबकि राज्य में अभी तक कोरोना की वजह से 7902 लोगों की मौत हो चुकी हैं।

वैक्सीन है सुरक्षित

भले ही वैक्सीन लगाने के बाद पॉजिटिविटी की दर न के बराबर हो, लेकिन इसके बावजूद लोगों में वैक्सीन लगवाने को लेकर हिचक अभी भी दिख रही है। कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा बनाई गई सलाहकार कमेटी के चेयरमैन डा. केके तलवाड़ कहते हैं, वैक्सीन सुरक्षित है। वैक्सीन लगवाने के बाद पॉजिटिविटी की दर न के बराबर ही है। अभी तक वैक्सीन को लेकर राज्य में कोई भी निगेटिव प्रभाव दिखाई नहीं दिया है। इसके बावजूद लोग मानने को राजी नहीं है।

डा. तलवाड़ कहते है, पंजाबी सबसे बहादुर कौम है लेकिन वैक्सीन लगवाने में वह बहादुरी दिखाई नहीं जा रही है। पंजाबी वैक्सीन लगवाने के बाद होने वाले हलके से बुखार और दर्द की परवाह तो कर रहा है, लेकिन लंबे समय तक अपने व अपने परिवार की जान बचाने की परवाह नहीं कर रहा है। अगर 22.22 लाख लोगों को वैक्सीन लगी और उसमें से 26 लोगों को ही कोरोना हुआ तो इसकी दर न के बराबर है। डा. तलवाड़ कहते हैं, वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। इसे लेकर किसी भी प्रकार का कोई भी भ्रम नहीं होना चाहिए।

75 लाख हैं 75 से ऊपर उम्र के बुजुर्ग, टीकाकरण हुआ मात्र 16.67 फीसद

स्वास्थ्य विभाग एक तरफ वैक्सीन को सुरक्षित बता रहा है। वहीं, दूसरी तरफ तथ्य यह भी कि राज्य में सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 75 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की संख्या 75 लाख के करीब है। इसमें से मात्र 16.67 फीसद लोगों ने ही कोरोना वैक्सीन लगवाई है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए हैं कि इस उम्र के लोगों को प्रोत्साहित किया जाए कि वह वैक्सीन जल्द से जल्द लगवाएं। पंजाब सरकार ने 2 लाख वैक्सीन एक दिन में लगवाने का लक्ष्य निर्धारित किया है, लेकिन महज एक दिन ही ऐसा हुआ है जब 1.1 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई है, जबकि औसतन 70 से 90 हजार वैक्सीन रोजाना लगाई जा रही हैं।

पुलिस मुलाजिम अब नहीं जा रहे अस्पताल

डायरेक्टर जनरल आफ पुलिस दिनकर गुप्ता की मानें तो राज्य में करीब 90 फीसद पुलिस मुलाजिमों को कोरोना वैक्सीन लगाई जा चुकी है। 18 फीसद से ज्यादा ऐसे लोग हैं जिन्हें दूसरी डोज भी दी जा चुकी है। वैक्सीनेशन के बाद पुलिस मुलाजिमों के कोरोना पॉजिटिव होने के दर न के बराबर है, जबकि दो माह पहले तक औसतन 20 से 25 मुलाजिम रोजाना पॉजिटिव हो रहे थे। इसमें से कई को अस्पताल में भी भर्ती होना पड़ रहा था। डा. तलवाड़ कहते हैं, वैक्सीन लगने के बाद अब पुलिस मुलाजिमों में कोरोना की शिकायत देखने को नहीं मिल रही है। कमोबेेेश यही स्थिति हेल्थ वर्करों में भी है। राज्य में अभी तक 1.62 लाख लोगों को कोरोना की पहली और 75,763 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई जा चुकी है।

Loading...
E-Paper