झारखंड में कोरोना संक्रमित युवक ने फंदे से लटककर दी जान, मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने दिए जांच के आदेश

रांची: झारखंड के गढवा में सदर अस्पताल परिसर स्थित कोरोना अस्पताल में इलाजरत एक युवक ने फांसी लगाकर ख़ुदकुशी कर ली है। घटना सोमवार तड़के की बताई जा रही है। सूचना मिलने के बाद मौके पहुंची पुलिस मामले का जांच कर रही है। इस मामले में संज्ञान लेते हुए मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने गढ़वा डीसी को जांच के निर्देश दिए हैं। 

उन्होंने कहा है कि, यह अत्यंत दुखद घटना है। गढ़वा डीसी को इसकी जांच के लिए कहा है, रिपोर्ट आने पर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने साथ में यह भी कहा की यह मेडिकल इमरजेंसी है। अत: सभी को धैर्य से रहना चाहिए और सरकार का कोरोना से जंग में सहयोग करना चाहिए। वहीं, घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि युवक की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद छह दिनों से कोविड सेंटर में भर्ती था। उसका उपचार चल रहा था। लोगों ने बताया कि कोरोना संक्रमित आने के बाद से ही वह डिप्रेशन में था। कोविड सेंटर में वह अलग बर्ताव करता था। युवक की ख़ुदकुशी की घटना से पूरे अस्पताल परिसर में कोहराम मच गया। युवक मझिआंव थाना क्षेत्र के करकट्टा गांव का निवासी था।

मृतक का नाम नीरज उपाध्याय बताया गया है। घटना के बाद पुलिस ने उसके परिवार के लोगों को सूचित कर दिया गया है। युवक ने जिस वार्ड में फांसी लगाकर ख़ुदकुशी कर ली है, उस वार्ड में करीब 7 से 8 अन्य मरीज इलाजरत हैं। युवक को 14 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद कोविड-19 अस्पताल में एडमिट करा दिया गया था। यहां इलाजरत अन्य मरीजों ने बताया कि रविवार के दिन से ही उसका  व्यव्हार बदल गया था। वह शोर मचा रहा था। बार-बार कह रहा था कोई उसे ऑक्सीजन लगा दे। उसकी किसी ने नहीं सुनी।

Loading...
E-Paper