हत्यारी बहन, मोहब्बत में जब खलल बना भाई तब उसने जान गंवाई

— प्रेमी संग मिल बहन ने की थी हत्या 

— देर रात प्रेमी युगल के मिलन में बाधक बन रहा था भाई

— हत्या को सुसाइड में बदलने की गयी कोशिश 

एंकर — हरदोई में रिश्तो को शर्मसार कर देने वाला एक और वाक़्या सामने आया है , जिसमे प्रेमी के प्यार में पागल बहन ने भाई की हत्या कराकर शव को फांसी पर लटका दिया था। कासिमपुर थाना क्षेत्र में नौ फरवरी को हुए हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर लिया। हत्याकांड को अंजाम देने वाली बहन और उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर  जेल भेज दिया गया है। पुलिस अधीक्षक ने हत्याकांड का खुलासा किया और पुलिस टीम को पांच हजार रुपये पुरस्कार दिया।

वीओ — कासिमपुर थाना क्षेत्र के वजीराबाद निवासी रामू की नौ फरवरी को हत्या कर दी गई थी। उसका शव छप्पर के नीचे उसी की शर्ट से लटकता मिला था। शुरुआत में लोगों ने इसे आत्म हत्या माना लेकिन पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया तो गला दबाकर हत्या की पुष्टि हुई। 16 फरवरी को मृतक के पिता राजाराम की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया  था और पुलिस अपनी तफ्तीश में जुट गयी थी कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार पुलिस को सफलता मिल ही गई। 

एसपी ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि रामू की बहन सुमन की शादी करीब छह वर्ष पूर्व सुरसा थाना क्षेत्र के सिंघुआमऊ निवासी संजय के साथ हुई थी। सुमन के एक बच्ची भी हुई। शादी के कुछ दिनों बाद से ही वह ससुराल छोड़कर मायके में रहने लगी। इसी दौरान उसके चमरहैया निवासी बृजेश से प्रेम प्रसंग हो गया और दोनों के बीच गहरे संबंध बन गए। रामू को जानकारी हुई तो उसने विरोध करना शुरू कर दिया। जिस पर सुमन और बृजेश ने उसे रास्ते से हटाने की साजिश रची।

नौ तारीख को रामू का पिता राजाराम लखनऊ गया था और मां लुधियाना में थी। घर पर रामू ही अकेला था, सुमन ने बृजेश को फोन कर बुलाया और फिर सोते समय रामू का गला दबाकर हत्या कर दी , एसपी ने बताया रामू के पैरो को उसकी बहन ने जकड़ लिया और उसके प्रेमी ने रामू का गला दबा दिया और उसकी मौत के बाद रामू की ही शर्ट उतार कर   शव को फंदे पर शर्ट से लटका दिया था। दोनों हत्यारोपितों को गिरफ्तार किया गया तो उन्होंने जुर्म स्वीकार कर पूरी जानकारी दी। दोनों को जेल भेज दिया गया है। सुमन, भाई रामू की हत्या कर न केवल अपने प्रेमी को पाना चाहती थी बल्कि उसकी पिता की संपत्ति पर भी नजर थी।

बाईट — विपिन मिश्रा (एसपी)

Visual Hatyari Bahen

Loading...
E-Paper