सरफराज अहमद ने नहीं मानी थी PCB की ये बात तो फिर छीन ली गई उनसे कप्तानी

Loading...

पाकिस्तान क्रिकेट टीम (Pakistan cricket team) के कप्तान सरफराज अहमद (Sarfaraz Ahmed) से लगातार उनकी खराब कप्तानी के बाद उनसे टेस्ट व टी20 टीम की कमान छीन ली गई। हालांकि इसके लिए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) ने इससे पहले उन्हें ये सलाह दी थी कि वो क्रिकेट के तीनों प्रारूपों से खुद ही कप्तानी छोड़ दें, लेकिन उन्होंने बोर्ड की बात को अनसुना कर दिया। बोर्ड की बात को अनसुनी करने के बाद ही पीसीबी ने ये कदम उठाया और उनसे कप्तानी छीन ली गई। सूत्रों के मुताबिक लाहौर में शुक्रवार को सरफराज अहमद बोर्ड के सीईओ वसीम खान से मिले थे और उन्होंने उनसे पाकिस्तान क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ने के लिए कहा था। वो पाकिस्तान टीम की कप्तानी क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में 2017 से कर रहे हैं।

पीसीबी सूत्र ने बताया कि सरफराज अहमद ने कप्तानी का पद छोड़ने से मना कर दिया था और वसीम खान से कहा कि अगर बोर्ड ये चाहती है तो उन्हें कप्तानी से हटा सकती है। सरफराज ने ये भी कहा था कि वो खुद से अपनी कप्तानी से इस्तीफा नहीं देंगे। सूत्र ने ये भी बताया कि सरफराज अहमद ऑस्ट्रेलिया टूर के लिए टेस्ट और टी20 टीम का हिस्सा नहीं होंगे। वहीं टीम के चीफ सेलेक्टर वो कोच मिस्बाह उल हक ने ये फैसला किया है कि सरफराज की जहग विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी मोहम्मद रिजवान को दी जाएगी। वहीं वसीम खान ने सरफराज से वादा किया है कि अगर वो अपनी फॉर्म वापस पा लेते हैं तो उनकी नेशनल टीम में वापसी हो सकती है।

पीसीबी के चेयरमैन अहसान मनी ने कहा कि सरफराज अहमद को तीनों प्रारूपों की कप्तानी से हटाना काफी कठिन फैसला था। उन्होंने कहा कि ये फैसला इस वजह से लिया गया क्योंकि उनके पास आत्मविश्वास की कमी थी साथ ही उनका प्रदर्शन बल्ले से भी काफी खराब रहा था। ये फैसला मुश्किल था लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट की हित को देखते हुए इसे लिया गया।

Loading...