वृंदा करात ने BJP पर साधा निशाना, कहा- पार्टी ने बनाई ‘रेपिस्ट रक्षकों की टोली’

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) की नेता वृंदा करात ने बच्चियों से रेप के मामलों में कड़े कानून लाने के मोदी सरकार के फैसले पर ऐतराज जताया है. 12 साल से कम उम्र की लड़कियों से रेप के मामलों में दोषियों के लिए मौत की सज़ा के प्रावधान पर प्रतिक्रिया देते हुए वृंदा करात ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है.

उनका कहना है कि यह जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के साथ रेप करने वालों को सरकार द्वारा बचाने के मामले से लोगों का ध्यान हटाने की कोशिश है. वृंदा करात ने ये बातें शनिवार को हैदराबाद में आयोजित मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के 22वें सम्मेलन में मीडिया से बातचीत के दौरान कही. उन्होंने कहा कि संविधान में रेयरेस्ट ऑफ द रेयर (दुर्लभतम) मामलों में पहले से ही मौत की सजा का प्रावधान है. उन्होंने कहा, “सैद्धांतिक तौर पर सीपीएम मौत की सज़ा के खिलाफ है.

Loading...

हालांकि, इस केस में असल मसला यह है कि सरकार आरोपियों को बचा रही है.” जानकारी के मुताबिक, सीपीएम की बैठक में एक प्रस्ताव पास कर कठुआ और उन्नाव में रेप की घटनाओं की कड़ी निंदा की गई. बता दें कि शुक्रवार को नाबालिगों से रेप के मामले में दोषी को फांसी की सजा दिलाने के लिए पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन के लिए अध्यादेश को केंद्रीय कैबिनेट द्वारा मंजूर कर लिया गया. अब इसको लागू करने के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी की जरूरत पड़ेगी.

Loading...
E-Paper