भाजपा रैली में दिनेश सिंह ने पानी पी-पीकर कांग्रेस को 25 मिनट तक कोसा

रायबरेली। पानी पी-पीकर कोसना वैसे तो एक प्रचिलित कहावत है लेकिन आज यह कहावत भाजपा की रैली के मंच पर दिखी। आज एमएलसी दिनेश ने कांग्रेस के अपने 15 वर्षों के रिश्ते को करीब 25 मिनट तक जमकर धोया। बोलते-बोलते जब उनका गला सूखने लगता तो वे माइक पर ही जोर से पानी मांगते गए और कांग्रेस को कोसते रहे। साथ ही रायबरेली में कांग्रेस को चुनौती देने और भगवामय करने की बात कहने से भी नहीं चूके।  पंचवटी परिवार के भाजपा में विलय होने पर आयोजित महारैली में एमएलसी ने दिल खोलकर कांग्रेस के खिलाफ अपनी भड़ास निकाली।  बोले, उन्हें कांग्रेस से तोड़ा नहीं गया बल्कि वह स्वयं ही भाजपा में शामिल हुए हैं। कहा, कांग्रेस ने जितने विधायक बनाए, वे दूसरे दलों से भीख मांगकर बनाए गए।

25 मिनट तक तोहमत ही तोहमत

पिछले 60 सालों में एक कार्यकर्ता नहीं बनाया जो विधायक का टिकट मांग सके। रायबरेली को गांधी-नेहरू परिवार की विरासत बोले जाने पर एमएलसी ने कड़ा ऐतराज जताया। बोले, रायबरेली के लोगों को ये बात जबरदस्ती मनवायी जाती है। यहां आचार्य द्विवेदी, मलिक मोहम्मद जायसी, स्वतंत्रता सेनानी राना बेनी माधव सिंह जैसी शख्सियतों ने जन्म लिया। यह धरती गांधी-नेहरू परिवार के नाम पर बल्कि इन जैसे महान लोगों के नाम से पहचानी जानी चाहिए। लगभग 25 मिनट तक एमएलसी मंच से कांग्रेस को ललकारते रहे। 

उड़ान अकादमी स्थापना को लेकर घेरा

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी की स्थापना को लेकर भी उन्होंने कांग्रेस को घेरा। बोले, इस अकादमी से रायबरेली का एक भी पायलट नहीं निकला। संस्थान से अब तक रायबरेली के दो-तीन सौ पायलट बन जाने चाहिए थे। ऐसा इसलिए नहीं हुआ क्योंकि इसकी स्थापना का उद्देश्य ही कुछ और था। दिल्ली वाले यहां आएं, दो-तीन दिन पिकनिक मनाएं, बस इसीलए इग्रुआ को खोला गया। कहा, मैने रायबरेली में यहां के पहले सांसद स्व फीरोज गांधी की प्रतिमा लगवाने की बात रखी। इस पर गांधी परिवार मेरा सिर कलम करने के लिए आतुर हो गया। जो अपने बाबा का नहीं हुआ, वो रायबरेली का भी नहीं हो सकता।

Loading...

तुम्हारा मीठा खाने नहीं आए जनाब 

क्षेत्रीय पत्रकार से किसी कार्यकर्ता से नोकझोंक हो गई। मंच तक यह नजारा जिखने लगा। तभी मंच पर मौजूद एमएलसी ने कहा कि आपके लिए मिठाई, खाने-पीने की व्यवस्था कर दी गई है, उसको इन लोगों को घलाइए-पिलाइए।। यह बात वरिष्ठ पत्रकार साथियों को नागवार लगी। पत्रकार दीर्घा से तुरंत जवाब भी दिया गया, कि मिठाई खाने नहीं, कवरेज करने आए हैं जनाब। एमएलसी का मंच से इस तरह बोलना वहां मौजूद पत्रकारों संग अन्य संभ्रांत लोगों को भी बहुत अखरा। 

क्या बोल रहे एमएलसी, कांग्रेस ने जुटायी जानकारी 

महारैली में कांग्रेस की खिलाफत में एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने क्या-क्या बोला, इसका ब्यौरा स्थानीय संगठन जुटाता रहा। तिलक भवन कार्यालय में भी सुबह से ही संगठन के मुख्य पदाधिकारी व बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रही। रैली में हो रही गतिविधियों की पल-पल रिपोर्टिंग की जाती रही। एमएलसी दीपक ङ्क्षसह भी काफी देर तक कांग्रेस कार्यालय पर रुके रहे। 

Loading...