उम्र 40 साल और कमाल बेमिसाल… इस स्टाइलिश बल्लेबाज ने तो दिल जीत लिया

नई दिल्ली. 40 की उम्र क्रिकेट खेलने की कम इस खेल को गुडबाय कहने की ज्यादा होती है. अब ऐसे में अगर इस उम्र का कोई बल्लबाज दमदार खेलता है और सिर्फ खेलता ही नहीं शतक भी जड़ता है तो फिर है ना कमाल बेमिसाल. ऐसा ही कमाल 40 साल के एक बल्लेबाज ने ईरानी ट्रॉफी में किया है. ये बल्लेबाज कोई और नहीं बल्कि घरेलू क्रिकेट के रनमशीन कहे जाने वाले वसीम जाफर हैं.

40 साल, 53 शतक!

40 साल के बल्लेबाज वसीम जाफर की शानदार शतकीय पारी की बदौलत ईरानी ट्रॉफी में रणजी ट्रॉफी चैम्पियन विदर्भ का पलड़ा भारी दिख रहा है. रेस्ट ऑफ इंडिया के खिलाफ मुकाबले में जाफर ने 137 गेंदों पर अपनी सेंचुरी एक शानदार चौके की बदौलत पूरी की. जाफर ने ये सेंचुरी जयंत यादव की गेंद पर चौका जड़कर पूरी की. ये इस सीजन में वसीम जाफर के बल्ले से निकली पहली फर्स्ट क्लास सेंचुरी थी, जबकि उनके करियर की 53वीं सेंचुरी थी.

ईरानी ट्रॉफी में फ्रंटफुट पर विदर्भ

ईरानी ट्रॉफी के 5 दिनी मैच के पहले ही दिन जाफर ने अपना सैंकड़ा पूरा किया और विदर्भ की टीम को फ्रंटफुट पर ला खड़ा किया. मैच में दूसरे दिन का खेल जारी है . जाफर के शतक की बदौलत विदर्भ का स्कोर 300 के पार पहुंच चुका है यानी कि रेस्ट ऑफ इंडिया की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं.

शतक लेगा दोहरे शतक की शक्ल!

जाफर का इरादा अब दूसरे दिन अपने शतकीय पारी को दोहरे शतक की शक्ल देने का होगा. जिस तरह की लंबी-लंबी पारियां खेलने का अनुभव उन्हें हैं उससे उनके ऐसा करने की बहुत हद तक गुंजाईश भी है.

अश्विन का 100वां फर्स्ट क्लास मैच

ईरानी ट्रॉफी के इस मैच में रेस्ट ऑफ इंडिया 5 स्पेशलिस्ट बोलर्स के साथ उतरी है. इनमें टीम इंडिया के टेस्ट टीम का हिस्सा रहने वाले आर. अश्विन भी शामिल हैं. अश्विन का ये 100वां फर्स्ट क्लास मैच है. अश्विन के 100वें फर्स्ट क्लास मैच में जाफर ने शतक तो जड़ दिया लेकिन अब बड़ा सवाल ये है कि क्या अश्विन एंड कंपनी 40 साल के जाफर को दोहरा शतक बनाने से रोक सकेंगे.

Loading...
E-Paper