बिहार : बजट शत्र का आगाज, बैलगाड़ी से विधानसभा पहुंचे कांग्रेस विधायक

Loading...

बिहार विधानमंडल के बजट सत्र का पहला दिन राज्यपाल के अभिभाषण और शोक प्रस्ताव के साथ खत्म हुआ. लेकिन पहले दिन के आगाज से ही बजट सत्र के अंजाम की तस्वीर नजर आने लगी. कांग्रेस विधायक अमित कुमार टुन्ना और एमएलसी प्रेमचन्द्र मिश्रा बैलगाड़ी के साथ सदन पहुंच गए. मामला किसानों के मुद्दों को प्रमुखता से उठाने का था, लेकिन कांग्रेस की इस कोशिश को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जबरदस्त बयानबाजी का दौर देखने को मिला.

सोमवार को बजट सत्र का आगाज हुआ. आमतौर पर सत्र के पहले दिन ज्यादा कुछ खास देखने को नहीं मिलता है. राज्यपाल के अभिभाषण के बाद शोक प्रस्ताव के साथ सदन की कार्यवाही अगले दिन के लिए स्थगित कर दी गयी. लेकिन सदन की कार्यवाही शुरु होने से पहले ही कांग्रेस विधायकों ने बजट सत्र को लेकर अपनी मनसा जाहिर कर दी.

विधायक अमित कुमार टुन्ना किसानों के मुद्दों के समर्थन में बैलगाड़ी से विधानसभा पहुंच गये. हलांकि उनकी बैलगाड़ी को विधानसभा परिसर के अंदर आने से रोक दिया गया. अमित कुमार टुन्ना के साथ सदन आ रहे एमएलसी प्रेमचन्द्र मिश्रा और सुरक्षाकर्मियों के बीच जमकर बहस हुई. विधानसभा की गेट पर तैनात मैजिस्ट्रेट ने प्रेमचन्द्र मिश्रा को विधान सभा सचिव से भी बात करायी, लेकिन दोनों मानने को तैयार नहीं थे. हालात इतने बिगड़ गए कि दोनों कांग्रेसी विधायक गिरफ्तारी देने तक के लिए तैयार हो गये.

प्रेमचन्द्र मिश्रा ने कहा कि देश और राज्य में किसानों की स्थिती खराब है. हम किसानों के समर्थन में प्रतीकात्मक प्रदर्शन करने आये हैं, लेकिन हमें रोका गया. जबकि इसी सदन में सत्तारुढ़ दल के विधायक बग्गी और घोड़ा गाड़ी से आते रहे हैं, उन्हें किसी ने नहीं रोका. विधायक अमित कुमार टुन्ना ने कहा कि सरकार किसानों को लेकर अपनी जवाबदेही से भाग नहीं सकती. सदन के अंदर किसानों के साथ हो रही नाइंसाफी का जवाब सरकार को देना होगा.

वहीं, किसानों के समर्थन में कांग्रेसी विधायकों के प्रदर्शन का मामला गरमा गया. सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच जमकर बयानों के तीर चले. बिहार सरकार के गन्ना उद्योग मंत्री खुर्शीद आलम ने कहा कि वर्षों तक एसी कमरे की राजनीति करने वाले कांग्रेसी आज बैलगाड़ी के पहियों पर आ गए हैं. कांग्रेस को किसानों के दर्द से क्या मतलब है.

वहीं, आरजेडी नेता रामचंद्र पूर्वे ने किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि किसानों का मुद्दा सबसे ज्वलंत है. उनके अनाज का समर्थन मूल्य तक नहीं मिल रहा. एनडीए सरकार में किसानों का हाल बेहाल है. वहीं, मंत्री विजय सिन्हा ने कहा है कि कांग्रेस किस मुंह से किसानों का मुद्दा उठा रही है. कांग्रेस की सरकार में ही किसानों का सबसे ज्यादा बुरा हाल हुआ.

कांग्रेस की बैलगाड़ी भले ही सदन तक नहीं पहुंच सकी, लेकिन कांग्रेस ने साफ संकेत दे दिया है कि बजट सत्र के दौरान किसानों के मुद्दे के जरिये ही कांग्रेस सरकार को घेरने की कोशिश करेगी.

Loading...