Chhattisgarh Budget 2019: किसानों पर फोकस रहा बजट, मिली ये सौगात…

Loading...

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बजट को किसानों को समर्पित कर दिया। इस बार 21597 करोड़ रुपए का कृषि बजट पेश किया गया। उन्होंने अपने भाषण में कहा कि धान हमारे राज्य की प्रमुख फसल है, लेकिन धान की कीमत कम होने की वजह से हमारे राज्य के किसानों की आर्थिक स्थिति खराब हो गई। हमने इसी बात को देखते हुए धान के समर्थन मूल्य में वृद्धि की है। इस बजट में किसानों के कई बड़ी घोषणाएं की गई हैं। कृषि बजट को पिछले बजट की तुलना में डेढ़ गुना बढ़ाया गया है।

राज्य सरकार ने खेती के विकास में नया बदलाव लाने के लिए कृषि विभाग का नाम बदल कर कृषक कल्याण एवं जैव प्रौद्योगिकी विभाग करने का निर्णय लिया है। गन्ना किसानों के विकास के लिए भी बजट में प्रावधान किए गए हैं। नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी का नारा हमने दिया है। हम गांवों में इन संरचनाओं का संरक्षण और विकास करेंगे। इससे गांवों की आर्थिक स्थिति और मजबूत होगी। गोबर गैस प्लांट और कंपोस्ट इकाई का निर्मांण भी गांवों में किया जाएगा। इस क्षेत्र में युवाओं को प्रशिक्षण और रोजगार भी प्राप्त होगा।

जानिए इस बजट में किसानों को क्या-क्या मिला

– सरकार धान की खरीदी 2500 रुपए प्रति क्विंटल में करेगी।

– 20 लाख किसानों की 10 हजार करोड़ रुपए कर्जमाफी की गई है।

– किसानों को 5 हॉर्स पावर के पंपों पर नि:शुल्क बिजली दी जाएगी।

– कृषि पंप उर्जीकरण के लिए 100 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

– 15 लाख किसानों के 207 करोड़ रुपए की बकाया सिंचाई कर माफी।

– समर्थन मूल्य पर दलहन, तिलहन, सोयाबीन, गन्ना खरीदी, सोयाबीन उत्पादन प्रोत्साहन के लिए 10 करोड़ रुपए और गन्ना बोनस पर 50 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

– छत्तीसगढ़ में 5 नए फूड पार्क बनाएं जाएंगे, इसके लिए 50 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया।

– उद्यानिकी और खाद्य प्रसंस्करण के लिए नया विश्वविद्यालय खोला जाएगा।

– नई सिंचाई परियोजनाओं के लिए 300 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है।

Loading...