दिनकर गुप्‍ता बने पंजाब के नए डीजीपी, मुस्‍तफा और सामंत गोयल को पछाड़ा

पंजाब सरकार ने वरिष्‍ठ आइपीएस अफसर दिनकर गुप्ता को पंजाब का नया डीजीपी नियुक्‍त किया है। दिनकर गुप्‍ता 1987 बैच के आइपीएस अफसर हैं। उनको सुरेश अरोड़ा के स्‍थान पर नियुक्‍त किया गया है। सुरेश अरोड़ा ने एक्‍सटेंशन लेने से इन्‍कार कर दिया था। दिनकर गुप्‍ता को डीजीपी बनाने की घोषणा मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने की। इस मौके पर सुरेश अरोड़ा और अन्‍य अधिकारी भी मौजूद थे। वह आज ही शाम चार बजे अपना कार्यभार संभाल लेंगे।

दिनकर गुप्‍ता ने डीजीपी की रेस में सामंत गोयल और मोहम्‍मद मुस्‍तफा को पछाड़ा है। गोयल के रिटायरमेंट में दो साल से कम का समय है। और मोहम्मद मुस्तफा की पत्‍नी कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार में मंत्री हैं। इसी कारण दोनों डीजीपी की रेस में पिछड़ गए। बताया जाता है कि पहले पंजाब सरकार के पास संघ लाेकसभा आयोग से तीन नामों का पैनल भेजा गया। इसमें पहले नंबर पर सामंत गोयल का नाम था। दूसरे नंबर पर 1986 बैच के मोहम्मद मुस्‍तफा का नाम था। तीसरे नंबर पर दिनकर गुप्‍ता का नाम था।

जानकारी के अनुसार, इसके बाद यूपीएससी से संशोधित सूची पंजाब सरकार से आई और इसमें से मोहम्‍मद मुस्‍तफा का नाम हटा दिया गया। इसके बाद तय हो गया कि दिनकर गुप्‍ता पंजाब के नए डीजीपी होेंगे। सुरेश अरोड़ा केपिछले साल 30 सितंबर को सेवानिवृत्त होने के बाद विस्तार पर थे। 

दिनकर गुप्ता अभी पंजाब पुलिस (इंटेलिजेंस) के डीजीपी थे। इसमें पंजाब स्टेट इंटेलिजेंस विंग, स्टेट एंटी-टेररिस्ट स्क्वाड (एटीएस) और ऑर्गनाइज्ड क्राइम कंट्रोल यूनिट (OCCU) की सीधी निगरानी शामिल थी।

एक अनुभवी और प्रतिष्ठित अधिकारी दिनकर गुप्ता को 26 अप्रैल 2018 को केंद्र में अतिरिक्त महानिदेशक स्तर के पद पर नियुक्ति के लिए सूचीबद्ध किया गया था। उन्होंने पंजाब में आतंकवादी चरण के दौरान साल से अधिक समय तक लुधियाना, जालंधर और होशियारपुर जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (जिला पुलिस प्रमुख) के रूप में कार्य किया। उन्होंने 2004 तक डीआइजी (जालंधर रेंज), डीआइजी (लुधियाना रेंज), डीआइजी (काउंटर-इंटेलिजेंस)  और डीआइजी (इंटेलिजेंस) के रूप में भी काम किया।

दिनकर गुप्ता को असाधारण साहस, विशिष्ट वीरता और उच्च आदेश के कर्तव्य के प्रति समर्पण के प्रदर्शन के लिए गैलेंट्री के लिए पुलिस पदक (1992) और बार टू पुलिस पदक के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया। उन्हें राष्ट्रपति और राष्ट्रपति पुलिस पदक द्वारा विशिष्ट सेवाओं के लिए पुलिस मेडल फॉर मेरिटोरियस सर्विसेज से भी अलंकृत किया।

पंजाब सरकार ने भेजी थीं तीन सूचियां

पंजाब सरकार ने तीन अलग-अलग सूचियां यूपीएससी को भेजी थीं। इनमें एक सूची वह थी जिसमें 1987 बैच तक के सभी सीनियर अधिकारियों के नाम थे। ये सभी वे अधिकारी हैं जिनके सेवाकाल में 30 साल हो चुके हैं। दूसरी सूची में उन पांच अधिकारियों के नाम थे जिनके सेवाकाल में दो साल का समय बाकी है। इसके अलावा एक अन्य सूची ऐसी भी गई थी जिसमें उन अधिकारियों के नाम थे जो डीजीपी तो हैं लेकिन उनके सेवाकाल में दो साल से कम समय रहता है। यूपीएससी ने इन तीनों सूचियों में से तीन नाम भेजे हैं।

सुरेश अरोड़ा ने पद बने रहने से कर दिया था इन्कार

उल्लेखनीय है कि मौजूदा डीजीपी सुरेश अरोड़ा का कार्यकाल नौ महीने बढ़ गया था, लेकिन उन्होंने कह दिया कि वह अब डीजीपी के रूप में और सेवाएं नहीं दे सकते। जब तक सरकार नए डीजीपी का चयन नहीं कर लेती है तब तक ही इस पद पर रहेंगे। सितंबर में कार्यकाल पूरा होने पर उन्हें तीन महीने की एक्सटेंशन मिली थी। बाद में इसे बढ़ा दिया गया।

मुस्‍तफा की पत्नी के मंत्री होने से पेंच फंसा

मोहम्मद मुस्तफा के मामले में उनकी पत्नी रजिया सुल्ताना पंजाब कैबिनेट में मंत्री होेने के कारण पेंच फंस गया। उनकी डीजीपी पद पर नियुक्ति होती तो  लोकसभा चुनाव के दौरान विपक्षी दल शिकायत कर सकते थे कि जिस डीजीपी के हाथ में प्रदेश में चुनाव करवाने की जिम्मेदारी है उनकी पत्नी सरकार में मंत्री हैं। ऐसे में डीजीपी निष्पक्ष चुनाव कैसे करवा सकते हैं।

Loading...
E-Paper