ब्रिटेन सरकार ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, भगोड़ा माल्या बोला – आदेश के खिलाफ करूंगा अपील

भगोड़े शराब व्यवसायी विजय माल्या ने खुद को भारत प्रत्यर्पित करने के ब्रिटेन सरकार के आदेश के कुछ घंटों बाद ही सोमवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि वो आदेश के खिलाफ अपील की प्रक्रिया शुरू करेगा. दरअसल, ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जावीद ने विजय माल्या को तगड़ा झटका देते हुए उसे भारत के हवाले करने का आदेश दिया है, जिसके बाद माल्या ने यह प्रतिक्रिया दी है.

माल्या के पास ब्रिटेन की उच्च न्यायालय में अपील की अनुमति हासिल करने के लिए चार फरवरी से 14 दिनों का समय है. माल्या ने एक ट्वीट करते हुए कहा है कि वो अपने प्रत्यर्पण के आदेश के विरुद्ध अपील की प्रक्रिया शुरू करेगा. भगोड़े शराब व्यवसाती ने ट्वीट में लिखा, ”…10 दिसंबर 2018 के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के फैसले के बाद मैंने अपील करने का अपने इरादे का उल्लेख किया था. गृह मंत्री के निर्णय से पहले मैं अपील की प्रक्रिया शुरू नहीं कर सकता था, लेकिन अब मैं आदेश के खिलाफ अपील की प्रक्रिया शुरू कर सकता हूं.”

ब्रिटिश गृह कार्यालय ने आज बताया है कि धोखाधड़ी का षड्यंत्र करने और धनशोधन के आरोपों में गृह मंत्री ने माल्या को भारत प्रत्यर्पित के आदेश दिए हैं. इसे माल्या को वापस लाने के भारत की कोशिशों को बड़ी कामयाबी के रूप में देखा जा रहा है. लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट ने 10 दिसंबर 2018 को कहा था कि 63 वर्षीय कारोबारी माल्या को भारतीय अदालतों के सामने जवाब देने होंगे. प्रत्यर्पण संधि की प्रक्रियाओं के तहत चीफ मजिस्ट्रेट का निर्णय गृह मंत्री जावीद को भेजा गया था, क्योंकि केवल गृह मंत्री को ही माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश देने के लिए अधिकार प्राप्त है.

Loading...
E-Paper