पार्टी दफ्तर के अंदर भाजपा के चार नेताओं ने की पत्रकार की पिटाई, गिरफ्तार

Loading...

रायपुर की पुलिस ने शनिवार को भाजपा के चार पदाधिकारियों को पार्टी कार्यालय में कथित तौर पर एक पत्रकार के साथ पिटाई करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी तब हुई जब भाजपा के जिलाधिकारी राजीव अग्रवाल, स्थानीय नेता विजय व्यास, उत्कर्ष त्रिवेदी और डीना डोगरे के खिलाफ मामला दर्ज हुआ।

पत्रकार ने भाजपा कार्यालय में चारों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए विरोध प्रदर्शन किया। पत्रकार सुमन पांडे ने कहा कि वह भाजपा की बैठक को कवर करने के लिए गए थे जिसे उन्होंने हालिया चुनाव में मिली हार की समीक्षा के लिए बुलाया था। पांडे ने कहा कि बहुत से स्थानीय नेता और रायपुर भाजपा अध्यक्ष सहित अन्य वहां मौजूद थे।

पांडे ने कहा, ‘मैं वहां बैठक कवर करने के लिए गया था और अचानक भाजपा के कुछ नेताओं ने दूसरे नेता के साथ मारपीट शुरू कर दी जिसे मैं अपने मोबाइल फोन में रिकॉर्ड करने लगा। इसके बाद उत्कर्ष त्रिवेदी और रायपुर अध्यक्ष राजीव अग्रवाल ने मुझपर हमला कर दिया और मेरी पिटाई करने लगे। उन्होंने मेरा फोन छीन लिया और रिकॉर्डिंग को डिलीट कर दिया। उन्होंने मुझे 20 मिनट तक कमरे में बंद रखा।’

पांडे को मामूली चोटे आईं हैं। वह शनिवार को दूसरे पत्रकारों के साथ भाजपा कार्यालय के अंदर धरने पर बैठ गए। गिरफ्तारी के बाद रायपुर के अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा, ‘हमने सुमन पांडे की शिकायत पर भारतीय दंड संहिता की धारा 342, 323, और 504 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।’

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पार्टी के प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने जोकि इस बैठक में शामिल थे उन्होंने सभी तरह के आरोपों का खंडन किया है। उनका कहना है कि किसी ने भी पत्रकार को नहीं मारा। उन्होंने कहा, ‘यह समीक्षा बैठक थी और केवल पार्टी कार्यकर्ताओं को आने की इजाजत थी। इसके बावजूद पत्रकार बैठक में आकर रिकॉर्डिंग कर रहा था। कुछ कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध किया और उसे रिकॉर्डिंग को डिलीट करने को कहा। उसे कभी पीटा नहीं गया। यह एक छोटा सा मसला था इसके बावजूद हमारे जिलाधिकारी पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया।’

Loading...