जानिए मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त और बनाई जाने वाली खिचड़ी का महत्व…

आप सभी को बता दें कि इस साल मकर संक्रांति खास संयोग बन रहा है और इसी के कारण यह और भी खास होने वाली है. जी हाँ, मकर संक्रांति के योग इस बार 2 दिन बन रहा है और इस बार मकर संक्रांति पर सर्वार्थसिद्धि योग बन रहा है. कहा जा रहा है सूर्य साल 2019 के मकर संक्रांति की रात्रि (14 जनवरी 2019) 8:08 बजे मकर राशि में प्रवेश करेंगे, जो 15 जनवरी (मंगलवार) दोपहर 12 बजे तक तक मकर राशि में रहेंगे. इस कारण से 15 जनवरी (मंगलवार) 2019 को दोपहर 12 बजे से पूर्व ही स्नान-दान का शुभ मुहूर्त है और मकर संक्रांति पर स्नान और दान का विशेष योग 15 जनवरी 2019 (मंगलवार) को बन रहा है. आप सभी को आज हम बताने जा रहे हैं मकर संक्रांति पुण्य काल मुहूर्त.

पुण्य काल मुहूर्त: पुण्य काल- 07:19 से 12:30

पुण्यकाल की कुल अवधि- 5 घंटे 11 मिनट

संक्रांति आरंभ- 14 जनवरी 2019 (सोमवार) रात्रि 20:05 से

मकर संक्रांति महापुण्यकाल शुभ मुहूर्त- 07:19 से 09:02

महापुण्य काल की कुल अवधि- 1 घंटा 43 मिनट

खिचड़ी का महत्व – कहते हैं मकर संक्रांति को खिचड़ी बनाने, खाने और दान करने खास होता है. ऐसा क्यों यह भी हम आपको बता दें. जी दरअसल यह मान्यता है कि चावल को चंद्रमा का प्रतीक मानते हैं, काली उड़द की दाल को शनि का और हरी सब्जियां बुध का प्रतीक होती हैं. कहा जाता है मकर संक्रांति पर खिचड़ी खाने से कुंडली में ग्रहों की स्थिती मजबूत होती है इसी वजह से इस मौके पर चावल, काली दाल, नमक, हल्दी, मटर और सब्जियां डालकर खिचड़ी बनाई जाती है.

Loading...