CBI मामले पर बोले पूर्व मुख्य न्यायाधीश, जाँच एजेंसियों को राजनीति से दूर रखने की जरुरत

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) मामले पर पूर्व मुख्य न्यायाधीश आरएम लोढ़ा ने कहा है कि, जांच एजेंसियों को राजनीति से अलग रखना चाहिए. उन्होंने कहा है कि देश की प्रमुख जांच एजेंसियों को आज़ादी दी जानी चाहिए, अब समय आ गया है कि इन्हें राजनीति से पृथक कर दिया जाए, जब तक जांच एजेंसियां राजनीतिक जगत से जुड़ीं रहेंगी, तब तक इस तरह के मामले सामने आते रहेंगे.

उल्लेखनीय है कि सीबीआइ के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा ने शुक्रवार को काफी जद्दोजहद के बाद अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया था. पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय चयन समिति ने अलोक वर्मा को सीबीआइ निदेशक पद से हटाकर फायर सर्विसेस का डीजी बना दिया था. इधर आलोक वर्मा की तरफ से जारी किए गए सभी स्थानांतरण आदेशों को सीबीआई के अंतरिम चीफ नागेश्वर राव ने पलट दिया है.

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिलने के बाद दो दिन पूर्व ही आलोक वर्मा ने सीबीआई निदेशक का पद वापिस ग्रहण किया था. इससे पहले केंद्र सरकार ने अलोक वर्मा और राकेश अस्थाना के बीच रिश्वतखोरी के आरोप-प्रत्यारोप का मामला सामने आने के बाद दोनों अधिकारियों को पद मुक्त करते हुए अवकाश पर भेज दिया था, जिसे अलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. सुप्रीम कोर्ट द्वारा पद पर बहाल किए जाने के बाद भी अलोक वर्मा को चयन समिति ने 2 -1 से फैसले से पदमुक्त कर दिया था. 

Loading...