योगी आदित्यनाथ की बुद्धि-शुद्धि के लिए हिन्दू महासभा ने किया यज्ञ।

उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ की बुद्धि-शुद्धि के लिए अखिल भारत हिंदू महासभा ने किया यज्ञ, हिंदू धर्म एवं हिंदू देवी-देवताओं का उपहास बनाने वाले एवं राम मंदिर निर्माण में बाधा उत्पन्न करने वाले राजनेताओं की बुद्धि शुद्धि के लिए किया यज्ञ, हाल ही में योगी आदित्यनाथ ने भगवान हनुमान जी को बताया था दलित, 6 दिसंबर को हिन्दु महासभा ने मनाया शौर्य दिवस।

प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ द्वारा हाल ही में एक बयान के दौरान भगवान हनुमान जी को दलित कह कर जातिधर्म की राजनीति करने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है,,,,आज 6 दिसंबर को बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा ढहाया गया था, जिसको अखिल भारत हिन्दू महासभा समेत तमाम हिन्दू संगठन शौर्य दिवस के रूप में मनाते चले आ रहे हैं, इन दोनों ही मामलों को लेकर आज हिन्दू महासभा ने अपने कार्यालय पर एक यज्ञ का आयोजन किया, जिसमें हिन्दु महासभा के प्रवक्ता अशोक पांडेय ने कहा कि शौर्य दिवस के अवसर पर भगवान राम के मंदिर के निर्माण की कल्पना करते हुए और राजनेताओं की बुद्धि-शुद्धि के लिए यज्ञ किया गया है जिन्होंने पिछले कई दिनों से वोट बैंक की राजनीति में हमारे भगवान श्री हनुमान जी को राजनीति का पात्र बना दिया, हमारे देवी देवताओं को जातियों में बांट दिया और जो करणी कार हैं उन्हें जो राम मंदिर बनाना चाहिए था उसमें सकारात्मक भूमिका न निभाते हुए राम मंदिर के निर्माण में बाधा उत्पन्न करके खड़े हुए हैं, जबकि आज पूरे देश का माहौल जो है राम मंदिर की परिकल्पना के लिए हैं, आज सभी चाहते हैं कि सरकार पूर्ण बहुमत में है, जो राम के नाम पर सरकार बनी थी उसको आज राम मंदिर बनवाना चाहिए था, मैं समझता हूं पिछले साढ़े 4 साल में मंदिर का निर्माण पूर्ण हो जाना चाहिए था, मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि,,,आप दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति बना सकते हैं, लेकिन जिनके नाम पर आपने वोट लिया जिनके नाम पर आप सत्ता में आए हैं, उनके लिए आप चुनाव के टाइम पर बोल रहे हैं, ऐसे राजनेताओं की बुद्धि-शुद्धि के लिए यज्ञ किया गया है, यज्ञ भगवान से प्रार्थना की गई है कि भगवान ऐसे राजनेताओं को सद्बुद्धि दे,,और जो भगवान के नाम पर पाप कर रहे हैं, इससे बचें,,,राम मंदिर के निर्माण का कार्य पूर्ण कराएं।