ड्रग के खिलाफ इटली ने छेड़ी जंग, 6 देशों से 80 माफियाओं को किया गिरफ्तार

80 से ज्यादा लोगों को 6 देशों में की गई छापेमारी के बाद गिरफ्तार किया गया है। इसमें संगठित अपराध करने वालों के उच्च सदस्यों सहित ड्रग तस्करी और मनी लांड्रिंग के आरोपी भी हैं। यह बात यूरोपियन जस्टिस यूरोजस्ट ने कहीं। दक्षिण इटली के कलाबेरिया में बेस्ड इस समूह को ऐसे समय पर तोड़ा गया है जब इटली पुलिस ने सिसिलियन माफिया के नए बॉस को गिरफ्तार कर लिया था। 

बुधवार को हुई छापेमारी में हजारों पुलिसवालों ने हिस्सा लिया था। उन्होंने चार टन कोकिन, 120 किलो ड्रग और जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, बेल्जियम, लग्जमबर्ग और सूरीनाम से मिले दो मिलियन यूरो कैश शामिल हैं। यूरोपियन यूनियन के उपाध्यक्ष फिलिप्पो स्पीजिया ने कहा, ‘आज हम पूरे यूरोप में संगठित अपराध करने वालों को एक स्पष्ट संदेश भेजना चाहते हैं। केवल वे ही सीमाएं पार करने में सक्षम नहीं हैं बल्कि यूरोप की न्यायपालिका और कानून प्रवर्तन समुदाय भी कर सकते हैं।’

फिलिप्पो ने कहा, ‘यह अभूतपूर्व और असाधारण परिणाम दो साल के ऑपरेशन का फल है। जिसमें ड्रांगघेटा परिवार के खतरनाक सदस्यों को निशाना बनाया गया जो ड्रग तस्करी और मनी लांड्रिंग में शामिल हैं।’ ड्रांगघेटा का ग्रीक में मतलब साहस होता है। यह बहुत से गांवों से मिलकर बना है। पुलिस के संगठन पर लगातार ध्यान देने और लगातार होने वाली गिरफ्तारी के बावजूद समूह अपनी पहुंच बढ़ा रहा है। 

बुधवार को ऑपरेशन को अंजाम देने वाले अधिकारियों ने ऑपरेशन पोलिना को समूह के लिए गहरा झटका बताया है। इटली से 41, जर्मनी से 21, बेल्जियम से 14, नीदरलैंड से 5 और लग्जमबोर्ग से दो लोगों को गिरफ्तार किया गया था। यूरोजस्ट ने कहा कि ऑपरेशन अभी भी जारी है। इटली के अभियोजक फेडेरिको केफियरो डी राहो का कहना है कि इस ऑपरेशन से दुनियाभर में ड्रांगघेटा के ड्रग तस्करी ऑपरेशन पर असर पड़ेगा। जिसमें कोलंबिया, इक्वाडोर और ब्राजील भी शामिल हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि यह पहला कदम है।