हुवाई की सीएफओ कनाडा में गिरफ्तार, चीन ने की तुरंत रिहाई की मांग

चीन की ग्लोबल टेलिकम्युनिकेशंस कंपनी हुवाई की मुख्य वित्तीय अधिकारी को कनाडा में गिरफ्तार कर लिया गया है। अधिकारियों ने कहा उन्हें शुक्रवार को अमेरिका प्रत्यर्पित किया जाएगा। चीन ने इसपर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है और तुरंत उनकी रिहाई की मांग की है। मेंग वानझू को इसलिए कैद किया गया क्योंकि अमेरिका उनके खिलाफ संदिग्ध ईरानी प्रतिबंधों की जांच कर रहा था। 

कंपनी अमेरीका के खुफिया अधिकारियों के रडार पर थी और उन्होंने इसे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया था। कनाडा के न्याय मंत्रालय का कहना है, ‘मेंग को 1 दिसंबर को वेंकुलर में गिरफ्तार किया गया था। अमेरिका उनके प्रत्यर्पण की मांग कर रहा है और उनकी जमानत याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई होगी।’ मंत्रालय का कहना है कि वह इस बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दे सकते हैं क्योंकि मेंग ने इसके प्रकाशन पर प्रतिंबध की मांग की है। 

मेंग हुवाई के संस्थापक रेन झेंगफई की बेटी और चीन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की पूर्व इंजीनियर हैं। वाल स्ट्रीट जरनल की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी विभाग ने अप्रैल में हुवाई के खिलाफ ईरान प्रतिबंधों के संदिग्ध उल्लंघन को लेकर जांच शुरू की थी। वहीं चीन की ओटावा में स्थित दूतावास ने मेंग की तुरंत रिहाई की मांग की है। राजनायिक मिशन ने एक बयान में कहा, चीनी पक्ष दृढ़ता से इस तरह की कार्रवाई का विरोध करती है जो पीड़ित के मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन करते हैं। 

चीन ने कनाडा और अमेरिका के सामने विरोध जताया है और मेंग की तुरंत रिहाई के साथ ही उनकी निजी स्वतंत्रता को बहाल करने के लिए कहा है। हुवाई का कहना है कि वह किसी भी तरह के अपराध से अंजान है और वह सभी काम कानून के दायरे में रहकर करता है। कंपनी ने कहा, ‘उसे मेंग पर लगे आरोपों के खिलाफ बहुत कम जानकारी दी गई है और वह उनके द्वारा किए गए किसी भी अपराध से अंजान है।’ हुवाई दुनिया की सबसे बड़ी टेलिकम्युनिकेशन के उपकरण और सेवा प्रदाता कंपनी है। वैश्विक तौर पर सफलता मिलने के बावजूद इसका अमेरिकी व्यवसाय परेशानियों वाला रहा है।