‘नेताजी का आना या ना आना हमारे लिए अब मुद्दा नहीं है’- शिवपाल सिंह यादव

समाजवादी पार्टी से अगल होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया का गठन करने वाले शिवपाल सिंह यादव 9 दिसंबर को लखनऊ में एक बड़ी रैली करने जा रहे हैं. अपनी जनाक्रोश रैली में शिवपाल पार्टी के एजेंडे का ऐलान करेंगे.शिवपाल ने अपनी पार्टी और सियासी मुद्दों पर जी मीडिया से खास बात की.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की रैली में मुलायम सिंह यादव की मौजूदगी के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि नेता जी का आना या ना आना अब कोई मुद्दा नहीं है. मुद्दा देश को बचाने का है. इसीलिए आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी यूपी में मुलायम सिंह यादव की सीट को छोड़ कर सभी 79 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

दरअसल, इससे पहले शिवपाल और अखिलेश यादव दोनों ही मुलायम पर दावा ठोंकते रहे हैं. मुलायम सिंह यादव भी कभी भाई शिवपाल के साथ दिखते हैं तो दूसरे ही पल अखिलेश यादव के साथ समाजवादी पार्टी के मंच पर. ऐसे में जब शिवपाल अपनी नई पार्टी के बैनर तले पहली रैली कर रहे हों तो मुलायम की मौजूदगी का सवाल सवाल यूपी की सियासत में लगातार उठ रहा था. शिवपाल ने अपने अंदाज से उस सवाल का जवाब भी दे दिया. साफ है कि अब शिवपाल के लिए मुलायम की मौजूदगी बड़ा सवाल नहीं है.

शिवपाल यादव कहते हैं, ”9 दिसंबर को होने वाली महारैली मुद्दों एवं जनआक्रोश पर केंद्रित होगी. यह रैली किसी व्यक्ति विशेष की रैली नहीं होगी, यह रैली जन साधारण के आक्रोश को स्वर देगी, यह रैली जन आकांक्षा को मुखर व मूर्त राजनीतिक संदर्भ देगी.” उन्होंने आगे कहा कि देश-प्रदेश के सामने, नौजवानों के सामने, किसानों के सामने जो चुनौती खड़ी है वह ज्यादा महत्वपूर्ण है. यह रैली आम लोगों, गरीब, किसान, मजदूर के आक्रोश को स्वर देने के लिए आयोजित की गई है.

इससे पहले प्रगतिशील समजावादी पार्टी 6 दिसंबर को काला दिवस के रूप में मनायेगी. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल यादव ने ज़ी मीडिया से बात करते हुए कहा कि राम मंदिर मुद्दे को लेकर पार्टी का स्टैंड बिल्कुल साफ है. किसी भी कीमत पर विवादित भूमि पर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की अवहेलना नहीं होनी चाहिए. क्योंकि अब तक बातचीत और आपसी सहमति का कोई नतीजा नहीं निकला, ऐसे में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का इंतजार होना चाहिए. सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के पहले विवादित भूमि पर मंदिर का निर्माण नहीं होना चाहिए. जिसे बहुत जल्दी है वो सरयू के उस पार निर्माण कर ले.

यूपी के सियासी हालात पर बात करते हुए शिवपाल ने कहा कि जनता केंद्र और यूपी की बीजेपी सरकार से परेशान हो चुकी है. सरकार ने अपना कोई भी वादा अब तक पूरा नहीं किया है. ना तो युवाओं को रोजगार मिला, ना किसानों को पूरा कर्ज माफ हुआ. यूपी में कानून-व्यवस्था की हालत बेहद खराब है. विकास की बातें करने वाली पार्टी अब संवेदनशील मुद्दों में उलझ कर रह गई है.

बुलंदशहर मामला
शिवपाल यादव बुलंदशहर में हुई घटना को भी दुर्भागयपूर्ण बताते है. शिवपाल की मानें तो यूपी की योगी सरकार कानून-व्यस्था को दुरुस्त करने में नाकाम साबित हो रही है. ऐसी घटनाओं पर रोक लगाने के लिए ठोस कदम की वकालत करते हुए शिवपाल यादव कहते है कि सरकार को ऐसे मामलों में सख्त कदम उठाने चाहिए ताकी भविष्य में ऐसी घटनाएं ना हो.