मेनका गांधी ने फडणवीस को लिखा पत्र, मुनगंटीवार को हटाने की मांग उठाई

बाघिन अवनि की मौत के मामले में केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने लिखा है कि अवनि की मौत की जिम्मेदारी तय करते हुए मंत्री सुधीर मुनगंटीवार को वन और पर्यावरण मंत्रालय से हटाया जाना चाहिए.

मेनका गांधी का कहना है कि पर्यावरण मंत्री सुधीर मुनगंटीवार संवेदनशील होते तो बाघिन अवनि को बचाया जा सकता था. उन्होंने चिट्ठी में लिखा है, ‘मैं लगातार 2 महीने से इस मुद्दे पर उनसे बात कर रही थी. अगर कोई वन और पर्यावरण मंत्री जानवरों को बचाने की बजाय उनको मारेगा, तो मतलब साफ है कि वह अपनी जिम्मेदारी पूरी करने में असफल है. यह उसी तरह से है, जैसे एक महिला और बाल विकास मंत्री चाइल्ड ट्रैफिकिंग के लिए काम करे.’

मेनका गांधी का कहना है कि इस घटना को लेकर जनता के बीच जो गुस्सा है, उसके लिए मुख्यमंत्री को संवेदनशीलता दिखानी चाहिए. साथ ही, अवनि की मौत की जिम्मेदारी तय कर कड़ी कार्रवाई करते हुए पर्यावरण और वन मंत्रालय से मंत्री को हटाना चाहिए. इससे पहले मेनका गांधी ने महाराष्ट्र सरकार की कड़ी आलोचना करते हुए कहा था कि, ‘यह पूरी तरह से अवैध है, वन विभाग के अधिकारी बाघिन को बेहोश करने और पकड़ने में सक्षम हैं, फिर भी शूटर शाफत अली खान ने महाराष्ट्र के वन मंत्री के आदेश पर उसे मार डाला.’

जानवरों के प्रति प्रेम का भाव रखने के लिए मशहूर मेनका ने कहा कि वे इस मामले को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ उठाएंगी. इस बाघिन को शार्प शूटर असगर अली ने मारा. असगर, मशहूर शार्प शूटर शफत अली के बेटे हैं. इस नरभक्षी बाघिन को रालेगांव थाने की सीमा में पड़ने वाले बोराती जंगल में घेर लिया गया था.

सितंबर महीने में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि इस बाघिन को गोली मारी जा सकती है, इसके बाद उसे माफी देने की ऑनलाइन याचिकाओं की बाढ़ आ गई थी. वन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि उसे जिंदा पकड़ने का प्रयास किया, पर घना जंगल और अंधेरा होने की वजह से ऐसा नहीं हो सका. आखिरकार एक गोली दागी गई और बाघिन ढेर हो गई.