सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा, सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को आगे आएं उद्यमी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उद्यमियों का आह्वान किया कि वे सौर ऊर्जा के इस्तेमाल के लिए आगे आएं। इससे न केवल ऊर्जा की बचत होगी बल्कि कार्बन उत्सर्जन को कम करने के साथ विदेश मुद्रा की भी भारी बचत होगी। उन्होंने बताया कि एक अनुमान के मुताबिक भारत प्रतिवर्ष आठ लाख करोड़ रुपये कर क्रूड आयल खरीदता है। प्रचूर मात्रा में उपलब्ध सौर उर्जा और ग्रीन एनर्जी के प्रचूर संभावनाओं को इस्तेमाल कर डीजल और पेट्रोल का बेहतर विकल्प प्रदान कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को बरगदवा स्थित वीएन डायर्स एंड प्रोसेसर्स प्राइवेट लिमिटेड में 1230 किलोवाट के सोलर प्लांट का उद्घाटन करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। मंडल के इस सबसे बड़े सोलर प्लांट को लगाने के लिए उन्होंने वीएन डायर्स के मालिकों को शुभकामनाएं दीं। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वीएन डायर्स ने न केवल अपनी ऊर्जा की जरूरत को पूरा किया है बल्कि ऊर्जा के संरक्षण का भी कार्य किया है। बिजली 7.50 रुपये प्रति यूनिट मिलती है जबकि सौर उर्जा 2.50 से लेकर 3.50 रुपये तक प्रति यूनिट पड़ेगी। एक बार पूंजी लगाई तो धन की भी बचत होगी। रखरखाव का खर्च भी ज्यादा नहीं है, इसलिए उद्यमियों को इसे अपनाने के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने आह्वान किया कि इनर्जी कंजर्वेशन बिल्डिंग कोड 2018 को भी अपनाएं इससे भी 30 फीसदी तक बिजली बचा सकते हैं। सरकारी भवनों पर यह लागू है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट और एनजीटी के प्रदूषण और पर्यावरण की चिंताओं की चर्चा करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में धुरियापार चीनी मिल के पास 50 एकड़ में 1200 करोड़ रुपये से एथेनॉल प्लांट लगाने जा रहे हैं। इंडियन आयल कारपोरेशन के साथ एमओयू भी हो चुका है, शीघ्र ही निर्माण कार्य प्रारंभ कराया जाएगा। किसान अपने खेत का वेस्ट और पराली जलाने के बजाए एथेनाल बनाने के लिए बेच सकेंगे। उद्यमियों से कहा कि सौर ऊर्जा के लिए नीति बनाई गई है। उद्यमियों को ओपेन एक्ससेस की की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है। वर्ष के 12 महीनों में 10 महीने अच्छी धूप रहती है। इन महीनों सौर उर्जा का इस्तेमाल करे तो काफी लाभ मिलेगा।

गीडा के उद्यमियों की समस्याओं का समाधान होगा

मुख्यमंत्री ने गीडा के उद्यमियों की समस्याओं का भी संज्ञान लिया। कहा कि प्रमुख सचिव औद्योगिक विकास से स्वयं कहा है कि वे गोरखपुर के उद्यमियों के साथ आकर बैठक करें। उनकी समस्याओं को समझें और उसका समाधान समय सीमा में करें ताकि निवेश करने के लिए अनुकूल महौल उद्यमियों को दे सकें। उद्यमियों से कहा कि उनके समक्ष अवसर है कि वे गोरखपुर और पूर्वी उत्तर प्रदेश में हर क्षेत्रों में अधिकाधिक निवेश करें। पालिसी के अंतर्गत सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।