इन्वेस्टर्स समिट: साधे गए एक तीर से कई निशाने

- in उत्तरप्रदेश, प्रदेश

2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयार की गई भूमिका

विपक्ष को भी निशाने पर लिया पीएम मोदी ने जनता को दिया डिफेंस कॉरिडोर का तोहफा 

लखनऊ। इन्वेस्टर्स समिट के बहाने प्रधानमंत्री नरेंद्र और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक तीर से कई निशाने साधे। मुख्यमंत्री के प्रयासों ने देश-विदेश के तमाम निवेशकों ने सरकार के साथ कई एमओयू किए और प्रदेश में करीब 4.48 लाख करोड़ के निवेश का भरोसा दिया। प्रदेश सरकार की इस कोशिश ने साफ कर दिया है कि योगी सरकार यूपी में विकास की रफ्तार को गति देने में जुटी है। यह योजना सफल हुई तो आने वाले कुछ वर्षों में प्रदेश की तस्वीर बदल जाएगी। साथ ही काफी लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा। वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिफेंस कॉरिडोर का तोहफा देकर अभी से लोकसभा चुनाव की बिछात बिछानी शुरू कर दी।

दो दिवसीय इन्वेस्टर्स समिट की सफलता के लिए योगी सरकार ने जमकर मेहनत की। इसका प्रतिफल भी उसे मिला। समिट में देश-विदेश के नामचीन निवेशक पहुंचे। इन निवेशकों ने प्रदेश में कुछ वर्षों के भीतर चार लाख करोड़ से अधिक के निवेश का भरोसा सरकार को दिया और एमओयू पर हस्ताक्षर किए। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए भूमिका भी बना दी। उन्होंने भाषण के दौरान प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2017 में अपने चुनावी वायदों की याद दिलाते हुए लक्ष्य को पूरा करने के प्रयासों का जिक्रकिया। उन्होंने बुंदेलखंड का जिक्र किया तो पूर्वांचल की भी बात की।

Loading...

किसानों की बात उठाई तो हवाई चप्पल पहनने वालों को हवाई जहाज से सफर कराने का सपना साकार करने की भी बात कही। इतना ही नहीं प्रधानमंत्री मोदी ने पिछली सरकारों पर भी हमला बोला और कहा कि पहले उत्तर प्रदेश के हालात ठीक नहीं थे लेकिन जब से प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी है यूपी में समृद्धि और विकास के लिए लगातार काम किये जा रहे हैं। अब उत्तर प्रदेश भी सुपरहिट परफॉरमेंस के लिए तैयार है।

ही नहीं प्रधानमंत्री ने बुंदेलखंड में डिफेंस कॉरिडोर बनाने का ऐलान किया। इस प्रोजेक्ट में 20 हजार करोड़ रुपये निवेश होंगे। इससे करीब 2.5 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। यूपी में डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का विस्तार आगरा , अलीगढ़, लखनऊ, कानपुर, झांसी और चित्रकूट तक होगा। कुल मिलाकर यह योगी सरकार के लिए भी काफी फायदे का सौदा साबित होगा क्योंकि आने वाले लोकसभा चुनाव में प्रदेश की जनता योगी सरकार के कामकाज पर फोकस करेगी और भाजपा भी योगी सरकार के कामकाज के आधार पर जनता के बीच जाएगी। जाहिर है योगी सरकार ने इससे एक ओर प्रदेश के आर्थिक विकास को साधने की कोशिश करती नजर आ रही है तो दूसरी ओर मिशन 2019 को भी लक्ष्य बनाकर चल रही है।

विपक्ष का हमला
इन्वेस्टर्स समिट को लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर जमकर हमला बोला है। विपक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से भी भारी निराशा हाथ लगी है। लोकसभा चुनाव नजदीक आने पर भाजपा ने सपनों व वादों का पिटारा खोलना शुरू कर दिया है। चुनाव से पहले इन्वेस्टर्स समिट कर जनता को फिर जुमलेबाजी में उलझाना चाहते हैं।

Loading...