यूपी के कारोबारी को मिली धमकी- पहले आतंकी बनो फिर अोसामा को मानो भगवान

- in उत्तरप्रदेश, प्रदेश

 जहां सोमवार को एक ओर गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली में भारत का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी गिरफ्तार हुआ है, वहीं दिल्ली से सटे नोएडा में सनसनीखेज घटना सामने आई है। यूपी के नोएडा में एक नामी कारोबारी को आतंकी संगठन ज्वाइन कराने की कोशिश हुई है। जानकारी मिलने पर जहां कारोबारी के परिवार में हड़कंप मचा है, वहीं परेशान कारोबारी ने सोमवार को थाने में इस बाबत शिकायत दर्ज कराई है। पीड़ित कारोबारी की नाम शैलेंद्र शर्मा है।  शैलेंद्र के मुताबिक, उसके पास लगातार ऐसे मैसेज आ रहे हैं, जिसमें ओसामा को भगवान बताया जा रहा है। शैलेंद्र ने पुलिस को दी शिकायत में बताया है कि उसके पास धमकी भरे मैसेज आ रहे हैं।

यूपी के कारोबारी को मिली धमकी- पहले आतंकी बनो फिर अोसामा को मानो भगवान

वहीं, पुलिस का कहना है कि वह इस धमकी और पीड़ित की शिकायत को गंभीरत से ले रही है। माना जा रहा है कि मजाक करना होता है वह टेलीफोन बूथ से फोन करता, लेकिन यहां पर तो बकायदा वाट्सएप नंबर से धमदी दी जा रही है। 

इस नंबर से आए वाट्सएप पर एक ही मैसेज कई बार लिखा गया है- ‘ओसामा बिन लादने इज आवर गॉड’। शैलेंद्र शर्मा को 9071457459 नंबर से ये सभी वाट्सएप मैसेज आए हैं।  बता दें कि इससे पहले सोमवार को ही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इंडियन मुजाहिदीन के संस्थापक सदस्य अब्दुल सुभान कुरैशी को पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर इलाके से गिरफ्तार किया। कुरैशी देश में कई बम धमाकों की वारदातों में शामिल था। इसने अंग्रेजी मीडियम स्कूल से अपनी पढ़ाई की है। कुरैशी को 4 दिन के लिए पुलिस रिमांड में लिया गया है।

Loading...

पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर अब्दुल सुभान कुरैशी ने देश की कई नामचीन प्राइवेट कंपनियों में अच्छे वेतनमान  पर काम किया था। यह बम बनाने में माहिर है। यह ट्रेनिंग कैंप भी आयोजित करता था। तौकीर सिमी का मुखिया भी बना था। इसे भारत का बिन लादेन भी कहा जाता है।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी पीएस कुशवाहा ने बताया कि कर्नाटक में इसकी मुलाकात भटकल ग्रुप से हुई थी और सीमी के साथ मिलकर इसने इंडियन मुजाहिदीन के लिए काम किया था। यह पिछले कई सालों से नेपाल में रह रहा था और सऊदी अरब भी गया था। यह कुछ दिन पहले दिल्ली में अपने एक सहयोगी से मिलने आया था। अब्दुल सुभान साल 1999 और 2000 के दौरान आतंकी गतिविधियों में शामिल हुआ था. यह साल 2007 से 2013 के बीच देश में हुए कई बम धमाकों में शामिल था। वहीं, तीन दिन पहले बिहार के बोधगया में मिले बम वाले मामले से भी इसके तार जुड़े हो सकते हैं। इसके अलावा यह साल 2008 में गुजरात के अहमदाबाद और सूरत में हुए बम धमाकों का मास्टर माइंड भी था। इन बम धमाकों में 56 लोग मारे गए थे और 238 घायल हो गए थे. कुरैशी ने 2007-08 में सिमी के 4 ट्रेनिंग कैंप बनाए थे।

 

 
Loading...
E-Paper