कनाडा के PM त्रुदू आज पंजाब में, सिद्धू बोले- ’20 साल आगे पहुंच जाएगा पंजाब’

चंडीगढ. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदू 21 फरवरी को अमृतसर में बैठक करेंगे. एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब के व्यवसाय के साथ ही लोगों के संपर्क को भी कनाडा के साथ अगले स्तर तक ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और बुधवार को अमृतसर में वह कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदू के साथ बैठक करेंगे.

इस बैठक से पहले अमरिंदर सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि त्रुदू और अमरिंदर की मुलाकात पंजाब को 20 साल आगे ले जा सकती है. उन्होंने कहा कि ये दौरा भारत और कनाडा के रिश्तों को मजबूती देगा. सिद्धू ने आगे कहा कि ये एक आपसी सहजीवन है जो दोनों देशों को बदल सकता है. कनाडाई पीएम की अगवानी के लिए केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी और पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू अमृतसर के श्री गुरू रामदास अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पहुंचेंगे. 

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि बाद में सिद्धू कनाडाई प्रधानमंत्री के साथ स्वर्ण मंदिर और बंटवारे के संग्रहालय के दौरे के समय भी मौजूद रहेंगे. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के निर्देश पर सिद्धू दोनों जगहों पर कनाडाई प्रधानमंत्री की अगवानी करेंगे.

इस बैठक से पहले मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदू के साथ बुधवार को अमृतसर में बैठक होगी. मुझे उम्मीद है कि इस बैठक से भारत-कनाडा के बीच व्यवसाय बढ़ेगा और दोनों देशों के लोगों के बीच संबंध भी मजबूत होंगे.’ इस बात को लेकर पहले अनिश्चितता बनी हुई थी कि क्या अमरिंदर सिंह 21 फरवरी को कनाडा के प्रधानमंत्री के संक्षिप्त दौरे में उनसे मुलाकात करेंगे या नहीं.

अधिकारियों ने कहा कि कनाडा के प्रधानमंत्री के स्वर्ण मंदिर में मत्था टेकने के बाद मुख्यमंत्री उनके साथ अमृतसर के एक होटल में बैठक करेंगे. गौरतलब है कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पिछले वर्ष कनाडा के रक्षा मंत्री हरजीत सज्जन से उनके पंजाब दौरे के समय मुलाकात करने से इनकार कर दिया था. अमरिंदर सिंह ने सज्जन पर ‘खालिस्तानी समर्थक’ होने का आरोप लगाया था.

अमरिंदर सिंह 2016 में जब पंजाब कांग्रेस के प्रमुख थे तो उन्होंने कनाडा के प्रधानमंत्री को कड़े शब्दों में पत्र लिखते हुए पंजाब विधानसभा चुनावों से पहले कनाडा में पंजाबी प्रवासी भारतीयों से बातचीत की अनुमति नहीं दिए जाने पर कड़ा विरोध जताया था. अमरिंदर सिंह ने इसे ‘मिलने पर रोक लगाने वाला आदेश’ बताया था. इस बीच अमरिंदर सिंह ने राज्य प्रशासन को निर्देश दिया है कि दौरे पर आए महानुभवों का शानदार स्वागत किया जाए.

अमरिंदर ने कहा, ‘कनाडा में पंजाब की जड़ें गहरी हैं जहां बड़ी संख्या में पंजाबी समुदाय रहता है और वे संपर्क को हमेशा मजबूत करने का प्रयास करते हैं.’ उन्होंने 1914 के कोमागाटा मारू घटना पर कनाडा की संसद में दो वर्ष पहले त्रुदू द्वारा जताए गए खेद का भी जिक्र किया. सैकड़ों सिख, मुस्लिम और हिंदू यात्रियों की जहाज को कनाडा में प्रवेश नहीं दिया गया था और उन्हें भारत लौटने पर बाध्य किया गया था जहां कई लोगों की मौत हो गई थी.

इस बीच उम्मीद है कि विपक्षी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल स्वर्ण मंदिर में कनाडा के प्रधानमंत्री का स्वागत करेंगे. शिअद के प्रवक्ता और पूर्व मंत्री दलजीत सिंह चीमा ने कहा, ‘सुखबीर बादल स्वर्ण मंदिर में कनाडा के प्रधानमंत्री का स्वागत करेंगे. वह शिअद प्रमुख के तोर पर त्रुदू का सम्मान करेंगे.’ कनाडा के प्रधानमंत्री एक हफ्ते के दौरे पर भारत आए हुए हैं और उनके साथ उनकी पत्नी तथा तीनों बच्चे भी भारत आए हुए हैं. अधिकारियों ने बताया कि त्रुदू 21 फरवरी को स्वर्ण मंदिर में मत्था टेकेंगे और वह विभाजन संग्रहालय का भी दौरा करेंगे. वह सुबह में अमृतसर हवाई अड्डा पर उतरेंगे और दोपहर दो बजे तक दिल्ली लौट जाएंगे.

Loading...
E-Paper