अधिकतम स्तर तक पहुंचा सुखना का जलस्तर, खोला गया फ्लड गेट

- in पंजाब, प्रदेश

राज्य में तीन दिन से रुक-रुक हो रही मुसीबत की बारिश कई जिंदगियों पर भारी पड़ गई। गत दिवस बारिश से हुए हादसों में छह लोगों की मौत हो गई। कई जिलों में धान की फसल खेतों में बिछ गई। बारिश से तापमान में भी भारी गिरावट दर्ज की गई। इस बीच चंडीगढ़ प्रशासन ने स्कूली बच्चों के अभिभावकों को सलाह दी है कि वे दोपहर की शिफ्ट में स्कूल आने वाले बच्चों को स्कूल न भेजें। चंडीगढ़ में एेसे 40 स्कूल हैं जहां दोपहर की शिफ्ट लगती है। वहीं, चंडीगढ़ स्थित सुखना लेक का पानी का स्तर अधिकतम स्तर तक पहुंच गया है। फ्लड गेट खोल दिया गया है। यह पानी पटियाला तक नुक्सान पहुंचा सकता है।इंडिया मैट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट चंडीगढ़ के पूर्वानुमान के अनुसार डाय साइकलोन व वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के प्रभाव की वजह से सोमवार को भी बारिश होगी। विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, पटियाला, पठानकोट में अधिक बारिश हो सकती है।  पंजाब में 6 फीसद कम बारिश   लायंस क्लब ने 200 शिक्षकों को किया सम्मानित यह भी पढ़ें  इस मानसून सीजन में पंजाब में 6 फीसद बारिश कम हुई है। राज्य में अगर 470.7 एमएम बारिश हो जाती है तो इसे सामान्य मानसून कहा जाता है, लेकिन पंजाब में अभी तक 442.8 एमएम बारिश हुई है, जोकि समान्य तापमान से 6 फीसद कम है। राज्य में इस बार सबसे ज्यादा बारिश रोपड़ जिले में हुई। रोपड़ में अभी तक 1125.4 एमएम बारिश हो चुकी है, जो कि सामान्य मानसून (706.8) एमएम से 59 फीसद ज्यादा है। सबसे कम बारिश फिरोजपुर जिले में हुई। फिरोजपुर में अभी 83.7 एमएम बारिश हुई है, जो किऔसत सामान्य मानूसन (341.2) का 75 फीसद कम है।

भारी बारिश के कारण पंजाब में जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। नवांशहर के गांव चूहड़ में मकान की छत गिरने से सो रहे मोहन महतो (35) और उसके बेटे गरजेश महतो (12) हो गई। पत्नी शीला (33) और बेटे हेमराज महतो (14) घायल हो गए। बरनाला के शैहणा में भी बारिश के कारण दीवार गिरने से 24 वर्षीय गीता की जान चली गई।

अमृतसर में भारी बारिश के कारण कंपनी बाग के सामने माल रोड की धंसी हुई सड़क।

अमृतसर जिले के अनगढ़ इलाके में भी बारिश के चलते आरे की छत गिर गई। हादसे में मजदूर मंजीत ङ्क्षसह की मौत हो गई। आधे घंटे के रेस्क्यू आपरेशन के बाद मलबे में फंसे तीन लोगों को बड़ी मुश्किल से बाहर निकाला गया। लुधियाना से बारिश के बीच कार बेकाबू होकर स्ट्रीट लाइट के पोल से टकरा गई, जिससे दो लोगों की मौत हो गई। कार भी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई।

बठिंडा  में बारिश से तीन रजबाहे टूटे, 700 एकड़ फसल डूबी

Loading...

पिछले दो दिनों से रुक रुक हो रही बारिश के कारण तीन रजबाहों के टूटने से बठिंडा जिले में 700 एकड़ के करीब धान की फसल जलमग्न हो गई।  किसान यूनियन के जसवीर ङ्क्षसह बुर्ज सेमा ने प्रशासन से मांग की कि किसानों पानी से फसल को हुए नुकसान का मुआवजा दिया जाए। 

इंडिया मैट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट चंडीगढ़ के पूर्वानुमान के अनुसार डाय साइकलोन व वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के प्रभाव की वजह से सोमवार को भी बारिश होगी। विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, पटियाला, पठानकोट में अधिक बारिश हो सकती है।

पंजाब में 6 फीसद कम बारिश

इस मानसून सीजन में पंजाब में 6 फीसद बारिश कम हुई है। राज्य में अगर 470.7 एमएम बारिश हो जाती है तो इसे सामान्य मानसून कहा जाता है, लेकिन पंजाब में अभी तक 442.8 एमएम बारिश हुई है, जोकि समान्य तापमान से 6 फीसद कम है। राज्य में इस बार सबसे ज्यादा बारिश रोपड़ जिले में हुई। रोपड़ में अभी तक 1125.4 एमएम बारिश हो चुकी है, जो कि सामान्य मानसून (706.8) एमएम से 59 फीसद ज्यादा है। सबसे कम बारिश फिरोजपुर जिले में हुई। फिरोजपुर में अभी 83.7 एमएम बारिश हुई है, जो किऔसत सामान्य मानूसन (341.2) का 75 फीसद कम है।

Loading...