रेवाड़ी सामूहिक दुष्कर्मः सेना के जवान समेत फरार दो मुख्य आरोपी भी गिरफ्तार

- in बड़ी खबर

रेवाड़ी में छात्रा से हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले में मुख्य आरोपित विशेष जांच दल (एसआइटी) को बड़ी सफलता मिली है। एसआइटी ने मामले में फरार चल रहे दो मुख्य आरोपियों पंकज फौजी और मनीष को भी गिरफ्तार कर लिया है। पंकज सेना का जवान है, जो पीड़ित छात्रा को पहले से जानता था। उसी की वजह से छात्रा इस विभत्स घटना का शिकार हुई थी। थोड़ी देर में एसआइटी प्रमुख नाजनीन भसीन प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया को गिरफ्तारी की पूरी जानकारी देंगी।

फिलहाल एसआइटी टीम और हरियाणा पुलिस के अधिकारी गिरफ्तार दोनों आरोपियों से मामले में पूछताछ कर रही है। पुलिस ये भी जानने का प्रयास कर रही है कि फरारी के दौरान किन-किन लोगों ने इन्हें छिपाने में मदद की। वारदात में और कितने लोग शामिल हैं। आरोपियों का मेडिकल परीक्षण करा शाम तक पुलिस इन्हें कोर्ट में पेश कर जेल भेज देगी। पुलिस कोर्ट में दोनों आरोपियों की रिमांड के लिए भी आवेदन कर सकती है।

Loading...
दिलदहला देनी वाले इस सामूहिक दुष्कर्म में पुलिस पहले ही एक मुख्य आरोपी निशु समेत दो अन्य आरोपियों डॉ. संजीव और दीन दयाल को गिरफ्तार कर चुकी है। निशु को 21 सितंबर को कोर्ट ने चार दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया था। वहीं डॉ. संजीव और दीन दयाल न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। वारदात में तीन मुख्य आरोपियों पंकज फौजी, मनीष और निशु ने छात्रा को खेत में बने ट्यूबवेल के कमरे में बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म किया था। तीनों आरोपी उसी गांव के रहने वाले हैं, जहां छात्रा रहती है।

दुष्कर्म के दौरान छात्रा की तबितय बिगड़ने पर आरोपियों ने डॉ. संजीव को बुलाकर उसका प्राथमिक उपचार भी कराया था। बावजूद डॉ. संजीव ने पुलिस को सूचना नहीं दी थी। सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को जिस कमरे में अंजाम दी गई वह दीन दयाल का था। इसलिए पुलिस ने डॉ. संजीव और दीन दयाल को भी वारदात में शामिल मानते हुए गिरफ्तार किया है। वहीं पीड़ित परिवार ने पूरी वारदात में 10 से 12 लोगों के शामिल होने की आशंका व्यक्त की थी। लिहाजा पुलिस गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ कर वारदात में शामिल अन्य लोगों के बारे में भी जानकारी जुटा रही है।

Loading...