गलत पेपर बांटने के मामले में आयोग के सचिव समेत तीन को नोटिस

बीते वर्ष पीसीएस मुख्य परीक्षा के दौरान गलत प्रश्न पत्र बांटने के मामले में पुलिस ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के सचिव सहित तीन लोगों को नोटिस भेजा है। एसपी क्राइम ने इस बाबत नोटिस भेजी है।बीते वर्ष पीसीएस मुख्य परीक्षा के दौरान गलत प्रश्न पत्र बांटने के मामले में पुलिस ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के सचिव सहित तीन लोगों को नोटिस भेजा है। एसपी क्राइम ने इस बाबत नोटिस भेजी है।  पीसीएस मुख्य परीक्षा 2017 में गलत प्रश्नपत्र बांटने और इसके बाद बवाल के मामले में लोक सेवा आयोग के सचिव, परीक्षा नियंत्रक के साथ छात्रनेता अवनीश पांडेय को पुलिस ने नोटिस जारी किया है। एसपी क्राइम की ओर से नोटिस इसलिए भेजी गई है, क्योंकि अब तक किसी की तरफ से अपना बयान नहीं दर्ज कराया गया है। इतना ही नहीं, प्रकरण में किसी ने लिखित रूप से पक्ष भी नहीं रखा है। लिहाजा पुलिस ने अब नोटिस के जरिए उनसे मामले में जवाब मांगा है।  दरअसल, प्रतियोगी छात्र अवनीश पांडेय ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष डॉ. अनिरुद्ध सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना करने की अर्जी कोर्ट में दी है। आरोप लगाया गया है कि 19 जून, 2018 को पीसीएस 2017 की मुख्य परीक्षा थी। राजकीय इंटर कॉलेज परीक्षा केंद्र पर सामान्य ङ्क्षहदी के पेपर की जगह निबंध का पेपर बांट दिया गया था। गलत पेपर बंटने पर अभ्यर्थी परीक्षा छोड़कर बाहर आ गए थे।   नैनी में तमंचे के बल पर 98 हजार की लूट यह भी पढ़ें   अवनीश का यह भी आरोप है कि आयोग अध्यक्ष ने पहले तो परीक्षा नियंत्रक पर परीक्षा छोडऩे वाले अभ्यर्थियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का दबाव बनाया। अदालत के आदेश पर मामले की जांच एसपी क्राइम मनोज कुमार अवस्थी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि लोक सेवा आयोग के सचिव, परीक्षा नियंत्रक और वादी छात्रनेता अवनीश की तरफ से बयान नहीं दर्ज कराने पर सभी को नोटिस जारी की गई है।

पीसीएस मुख्य परीक्षा 2017 में गलत प्रश्नपत्र बांटने और इसके बाद बवाल के मामले में लोक सेवा आयोग के सचिव, परीक्षा नियंत्रक के साथ छात्रनेता अवनीश पांडेय को पुलिस ने नोटिस जारी किया है। एसपी क्राइम की ओर से नोटिस इसलिए भेजी गई है, क्योंकि अब तक किसी की तरफ से अपना बयान नहीं दर्ज कराया गया है। इतना ही नहीं, प्रकरण में किसी ने लिखित रूप से पक्ष भी नहीं रखा है। लिहाजा पुलिस ने अब नोटिस के जरिए उनसे मामले में जवाब मांगा है।

दरअसल, प्रतियोगी छात्र अवनीश पांडेय ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष डॉ. अनिरुद्ध सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना करने की अर्जी कोर्ट में दी है। आरोप लगाया गया है कि 19 जून, 2018 को पीसीएस 2017 की मुख्य परीक्षा थी। राजकीय इंटर कॉलेज परीक्षा केंद्र पर सामान्य ङ्क्षहदी के पेपर की जगह निबंध का पेपर बांट दिया गया था। गलत पेपर बंटने पर अभ्यर्थी परीक्षा छोड़कर बाहर आ गए थे।

Loading...

अवनीश का यह भी आरोप है कि आयोग अध्यक्ष ने पहले तो परीक्षा नियंत्रक पर परीक्षा छोडऩे वाले अभ्यर्थियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का दबाव बनाया। अदालत के आदेश पर मामले की जांच एसपी क्राइम मनोज कुमार अवस्थी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि लोक सेवा आयोग के सचिव, परीक्षा नियंत्रक और वादी छात्रनेता अवनीश की तरफ से बयान नहीं दर्ज कराने पर सभी को नोटिस जारी की गई है।

Loading...