मुंबई के लीलावती अस्पताल की पूजा करते हैं अमिताभ, ब्लॉग पर लिखी भावुक करने वाली कविता

- in मनोरंजन

अमिताभ बच्चन कल लीलावती अस्पताल में भर्ती थे. उनके परिवार के सभी सदस्य भी उनके साथ अस्पताल में ही थे. बताया गया कि बीते कुछ समय से अमिताभ गले और स्पाइन के दर्द से परेशान थे, इसीलिए उन्हें लीलावती में भर्ती करवाया गया. लेकिन अमिताभ की तबियत को लेकर इंटरनेट पर जिस तरह उन्हें गेट वेल सून देने वाले मैसेजस की बाढ़ आई, उसे देखकर कहा जा सकता है कि बिग बी के चाहने वाले उन्हें कितना प्यार करते हैं. इस पर खुद सीनियर बच्चन भी काफी भावुक हो गए. उन्होंने इसे लेकर अपने ब्लॉग पर एक कविता ही लिख दी.

बिग बी ने बताया कि उनका रिश्ता लीलावती अस्पताल से कितना पुराना है. उनका जन्म भी यहीं हुआ है. अगर इस अस्पताल के डॉक्टर नहीं होते, तो बिग भी नहीं होते. वह इस अस्पताल को एक मंदिर की तरह मानते हैं.बिग बी अस्पताल से निकलते वक्त अपने मुंह को मफलर से ढके हुए थे. इसका कारण भी उन्होंने बताया. उन्होंने कहा कि शुरुआत में वह इतनी भीड़ को देखकर घबरा से गए थे, लेकिन बाद में उन्हें अहसास हुआ कि मीडिया और फोटोग्राफर भी अपना काम कर रहे हैं. इन सब बातों को कविता के अंदाज में जिस तरह अमिताभ बच्चन ने लिखा है, वो भी कम भावुक करने वाला नहीं है.

“जी हाँ जनाब मैं अस्पताल जाता हूँ
बचपन से ही इस प्रतिकिया को जीवित रखता हूँ ,
वहीं तो हुई थी मेरी प्रथम पयदाइशि चीत कार
वहीं तो हुआ था अविरल जीवन का मेरा स्वीकार
इस पवित्र स्थल का अभिनंदन करता हूँ मैं
जहाँ इस्वर बनाई प्रतिमा की जाँच होती है तय
धन्य है वे ,
धन्य हैं वे
जिन्हें आत्मा को जीवित रखने का सौभाग्य मिला
भाग्य शाली हैं वे जिन्हें , उन्हें सौभाग्य देने का सौभाग्य ना मिला
बनी रहे ये प्रतिक्रिया अनंत जन जात को
ना देखें ये कभी अस्वस्थता के चंडाल को
पहुँच गया आज रात्रि को Lilavati के प्रांगण में
देव समान दिव्यों के दर्शन करने के लिए मैं
विस्तार से देवी देवों से परिचय हुआ
उनकी वचन वाणी से आश्रय मिला
निकला जब चौ पहियों के वाहन में बाहर ,
‘रास्ता रोको’ का ऐलान किया पत्र मंडली ने जर्जर
चाका चौंद कर देने वाले हथियार बरसाते हैं ये
मानो सीमा पार कर देने का दंड देना चाहते हैं वे
समझ आता है मुझे इनका व्यवहार ;
समझ आता है मुझे, इनका व्याहार
प्रत्येक छवि वार है ये उनका व्यवसाय आधार ,
बाधा ना डालूँगा उनकी नित्य क्रिया पर कभी
प्रार्थना है बस इतनी उनसे मगर , सभी
नेत्र हीन कर डालोगे तुम हमारी दिशा दृष्टि को
यदि यूँ अकिंचन चलाते रहोगे अपने अवज़ार को
हमारी रक्षा का है बस भैया, एक ही उपाय ,
इस बुनी हुई प्रमस्तिष्क साया रूपी कवच के सिवाय
– Amitabh Bachchan

Loading...

अमिताभ इन दिनों अपनी अगली फिल्म 102 नॉट आउट की रिलीज की तैयारी में व्यस्त हैं. ये फिल्म बाप-बेटे के रिश्तों पर आधारित हैं. पैडमैन में उनका एक कैमियो रोल है.

Loading...