दरोगा बनाने का झांसा, देकर ठग लिए 15 लाख

-पैसे के बदले पुलिस की फर्जी वर्दी और वायरलस थमाये

-अब पीड़ित ने एसपी से लगाई न्याय की गुहार

एंकर-पुलिस महकमे में नौकरी का सपना देखने वाले युवाओं को जालसाजों द्वारा कैसे-कैसे शिकार बनाया जा रहा है, इसकी एक झलक यूपी के हरदोई में देखने को मिली है। यहां ठगों ने एक युवक को दरोगा बनाने का झांसा देकर उससे 15 लाख रुपये ठग लिए। ठगी भी ऐसी कि युवक को पहले भनक तक नहीं लगी। दरअसल, ठगों ने युवक झांसे में रखने के लिए बकायदा पुलिस की वर्दी, कैप, स्टार और वायरलस सेट तक दे दिया था। अब पीड़ित ने एसपी से न्याय की गुहार लगाई है। 

वीओ-1-मामला हरदोई जिले के कासिमपुर थानाक्षेत्र के ग्राम गौरी दायमपुर का है।यहां के निवाासी गौरव जायसवाल पुत्र राजकुमार जायसवाल ने अजय सिंह नाम के एक व्यक्ति पर दरोगा बनाने के नाम पर 15 लाख रुपये ठगने का आरोप लगाया है। गौरव ने बताया कि उसके चाचा जुगुल किशोर जायसवाल की ससुराल कानपुर में है और वह पिछले दो साल से वहीं रह रहे हैं।

वीओ-2-गौरव ने बताया कि अजय सिंह उसके चाचा का मित्र है। सितम्बर महीने में उन लोगों ने उसके घर आकर पुलिस में दरोगा बनाने की बात कही और 35 हजार रुपये ले गए। धीरे-धीरे करके वे परिवार से 15 लाख रुपये ले चुके हैं। पीड़ित ने अपर पुलिस अधीक्षक को पूरा मामला बताते हुए शिकायती पत्र दिया है। पीड़ित ने शिकायती पत्र में कहा है कि बीते वर्ष 10 नवंबर को अजय सिंह और उसके चाचा गांव आए और उसे पुलिस की वर्दी, कैप, स्टार और वायरलस सेट दिया। उसके बाद से दोनों गायब हो गए। गौरव ने बताया कि 19 नवंबर के बाद से जब उसने अपने चाचा और अजय सिंह से संपर्क कर पैसे वापस करने की बात कही तो उसे चुप रहने और जान से मारने की धमकी दी गई।पुलिस अब मामले की जांच में लगी है।

बाईट-पीड़ित 

vo –asp पूर्वी ज्ञानजय सिंह  बताया की एक यूवक आया था जिसने एक प्रार्थना पत्र fir दर्ज करने के लिए दिया है असल में उसके चाचा के एक दोस्त जो कानपूर में रहते है ,करीब 15 लाख लेकर इसे दरोगा बनने का लालच  दिया था। और वर्दी और वायरलेस सेट भी इसको दिया जब इसने अपने पैसे मांगे। जांच की जा रही है fir दर्ज कर कार्यवाही की जायेगी। 

बाईट-asp -ज्ञानंजय सिंह 

Farzi inspector thagi–Byte ASP Hardoi–Kunwar Gyananjay Singh

Farzi inspector thagi visual–aaropi

Farzi inspector thagi visual–2

Farzi inspector thagi visual–1

Loading...
E-Paper