TMC और TDP के प्रदर्शन से गरमाई संसद, दोनों सदनों की कार्यवाही स्‍थगित

आज भी संसद सत्र हंगामेदार रहा। पेट्राेल-डीजल की कीमतों को लेकर तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सदस्‍यों ने संसद परिसर में प्रदर्शन किया। वहीं पश्चिम बंगाल सरकार के काम में राज्‍यपाल के हस्‍तक्षेप को लेकर दोनों सदनों में स्‍थगन प्रस्‍ताव भी दिया। इस बीच विपक्षी पार्टियों के हंगामे को देखते हुए दो बजे तक के लिए राज्‍यसभा की कार्यवाही स्‍थगित कर दी गई। वहीं टीडीपी समेत कई अन्‍य पार्टियों के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही भी स्‍थगित कर दी गई।

 

बजट में आंध्र प्रदेश को तरजीह न दिए जाने को लेकर तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) भी नाराज चल रही है। पार्टी ने आज भी इसको लेकर संसद भवन में महात्‍मा गांधी की मूर्ति के समक्ष प्रदर्शन किया। इससे पहले सोमवार को भी पार्टी ने इसी तरह विरोध जताया था और केंद्र सरकार से आंध्र प्रदेश को लेकर किए गए वादों को पूरा करने की मांग की थी। 

 

लोकसभा में विपक्ष द्वारा कासगंज और कश्‍मीर मामला उठाए जाने के आसार थे। गणतंत्र दिवस पर कासगंज में तिरंगा यात्रा के दौरान हिंसा में युवक चंदन गुप्ता की हत्या को लेकर काफी बवाल मचा था। अभी भी वहां तनावपूर्ण माहौल है और अराजक तत्‍वों द्वारा शांति को भंग करने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं सीमा पर पाकिस्‍तान द्वारा लगातार किए जा रहे सीजफायर उल्‍लंघन को लेकर भी माहौल गरमाया हुआ है। रविवार को पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में चार भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इनमें गुरुग्राम के रणसिका गांव के कैप्टन कपिल कुंडू (22) भी शामिल हैं। हमले में दो अन्‍य जवान घायल भी हो गए थे।

इससे पहले सोमवार को भाजपा सांसद बाबू हुकुम सिंह के निधन को लेकर लोकसभा की कार्यवाही भी दिनभर के लिए स्‍थगित कर दी गई। तीन फरवरी को उनका निधन हो गया था। उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित किए जाने के बाद लोकसभा की कार्यवाही स्‍थगित कर दी गई थी।

वहीं राज्‍यसभा में भी विपक्ष ने सोमवार को हंगामा मचाया था। नोएडा फेक एनकाउंटर को लेकर समाजवादी पार्टी के हंगामे के बाद दो बजे तक के लिए कार्यवाही स्‍थगित कर दी गई थी। हंगामे को देखते हुए राज्‍यसभा अध्‍यक्ष एम वेंकैया नायडू ने कहा था कि आप सिर्फ पब्लिसिटी के लिए आते हो। आपको बता दें कि नोएडा में उत्तर प्रदेश पुलिस पर एक शख्स को फर्जी मुठभेड़ में गोली मारने का आरोप लगा है। पीड़ित जितेंद्र यादव के परिवार वालों का कहना है कि यूपी पुलिस ने एक फेक एनकाउंटर में उसे गोली मारी है। इतना ही नहीं, शुरुआत में यह कहा जा रहा था कि एसआइ ने प्रमोशन पाने के लिए जितेंद्र यादव को गोली मारी है। हालांकि, इस बात में कितनी सच्चाई है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा।

हालांकि बाद में भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने सरकार की तरफ से मोर्चा संभाला था और पकौड़ा राजनीति पर बोलते हुए कहा था कि बेरोजगारी से बेहतर तो पकौड़ा बेचना है। गौरतलब है कि पहले से ही बजट सत्र की कार्यवाही बाधित होने की आशंका थी। कई मुद्दों को लेकर विपक्ष सरकार को घेरने की तैयारी में थी। इनमें बजट, राष्‍ट्रपति का अभिभाषण, टीडीपी की नाराजगी और तीन तलाक बिल का मुद्दा भी शामिल है। 29 जनवरी को राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण से ही बजट सत्र की शुरुआत हुई थी। अपने अभिभाषण में उन्‍होंने मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए कई उपलब्धियां गिनाने के साथ भावी योजनाओं पर प्रकाश डाला था।

Loading...
E-Paper